Home उत्तर प्रदेश रूद्राक्ष कंवेंशन सेंटर में टेस्टिंग का काम शुरू, जापान-भारत की दोस्ती का...

रूद्राक्ष कंवेंशन सेंटर में टेस्टिंग का काम शुरू, जापान-भारत की दोस्ती का प्रतीक है


रूद्रक्ष कन्वेंशन सेंटर वाराणसी
– फोटो: अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

* सिर्फ ₹ 299 सीमित अवधि की पेशकश के लिए वार्षिक सदस्यता। जल्दी से!

ख़बर सुनता है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में जापान और भारत की दोस्ती का प्रतीक रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर का निर्माण कार्य लगभग पूरा हो चुका है। फिनिशिंग और टेस्टिंग का काम शुरू हो गया है।

कार्यदायी एजेंसी सीपीडब्ल्यूडी के सह कार्यकारी निदेशक एके गुप्ता ने बताया कि बिजली, सीवर आदि की व्यवस्थाओं की जांच की जा रही है। इसलिए जो कमियां उन्हें 31 मार्च के पहले सुधार के लिए संभव बना सकती हैं। ट्रायल का काम 31 मार्च तक पूरा होगा। ट्रायल के तौर पर सभी व्यवस्थाओं की जांच की जा रही है।

कमिश्नररक अग्रवाल ने बताया कि दो देशों के मामलों को देखते हुए लोकार्पण की तिथि सरकार तय करेगी। शिवलिंग के आकार का यह केंद्र अप्रैल में जनता को समर्पित किया जाएगा। इसके रखरखाव और चलाने की जिम्मेदारी आईएसडब्ल्यूएसी कंपनी (इंडियन सैनिटेशन वार्ड ब्वाय एंड हार्टिकल्चर श्र्रैक्टर) को दी गई है।

दिव्यांगों का भी विशेष ध्यान रखा

कन्वेंशन सेंटर में दिव्यांगजनों के लिए भी अलग से व्यवस्था की गई है। केंद्र के दोनों मुख्य दरवाजों पर 6-6 व्हील चेयर का इंतजाम है। बेमेंट में पार्किंग की व्यवस्था है। सुरक्षा व्यवस्था के भी पुख्ता इंतजाम किए गए हैं।
केंद्र में लगे हुए हैं 108 एल्युमिनियम के रूद्राक्ष
कंवेंशन सेंटर के बाहरी हिस्से में 108 बड़े रुद्राक्ष लगाए गए हैं, जो कि एल्युमीनियम के बने हैं। यह रुद्राक्ष केंद्र की सुंदरता में चार चांद लगा रहे हैं। इसके रखरखाव और चलाने की जिम्मेदारी आईएसडब्ल्यूएसी कंपनी (इंडियन सैनिटेशन वार्ड ब्वाय एंड हार्टिकल्चर कांट्रैक्टर) को दी गई है, जो पहले से टीएफसी का संचालन कर रही है।
दस साल के लिए हुए टेंडर में औसतन प्रति वर्ष 30 लाख रुपये से एक करोड़ रुपये प्रशासन को होगा। प्रतिवर्ष औसत राजस्व 37 प्रतिशत मिलेगा। बाकी वहाँ के रखरखाव, बिजली, सुरक्षा आदि की व्यवस्था कंपनी करेगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में जापान और भारत की दोस्ती का प्रतीक रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर का निर्माण कार्य लगभग पूरा हो चुका है। फिनिशिंग और टेस्टिंग का काम शुरू हो गया है।

कार्यदायी एजेंसी सीपीडब्ल्यूडी के सह कार्यकारी निदेशक एके गुप्ता ने बताया कि बिजली, सीवर आदि की व्यवस्थाओं की जांच की जा रही है। इसलिए जो कमियां उन्हें 31 मार्च के पहले सुधार के लिए संभव बना सकती हैं। ट्रायल का काम 31 मार्च तक पूरा होगा। ट्रायल के तौर पर सभी व्यवस्थाओं की जांच की जा रही है।

कमिश्नररक अग्रवाल ने बताया कि दो देशों के मामलों को देखते हुए लोकार्पण की तिथि सरकार तय करेगी। शिवलिंग के आकार का यह केंद्र अप्रैल में जनता को समर्पित किया जाएगा। इसके रखरखाव और चलाने की जिम्मेदारी आईएसडब्ल्यूएसी कंपनी (इंडियन सैनिटेशन वार्ड ब्वाय एंड हार्टिकल्चर श्र्रैक्टर) को दी गई है।

दिव्यांगों का भी विशेष ध्यान रखा





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments