Home रेवेन्यू बी और खर्च बढ़ा: बजट की तुलना में देश का फिस्कल...
Array

रेवेन्यू बी और खर्च बढ़ा: बजट की तुलना में देश का फिस्कल डेफिसिट 135% 10.75 लाख करोड़ रुपये से अधिक हुआ


विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुंबई37 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

सरकार ने बजट अनुमान की तुलना में लगभग 63% खर्च किया है। इसकी राशि लगभग 19 लाख 6 हजार 358 करोड़ रुपये है। कुल रे एवेन्यू खर्च में से 3.83 लाख करोड़ रुपए ब्याज के पेमेंट और 2.02 लाख करोड़ रुपए के रूप में खर्च हुए

  • रेवेन्यू में कमी इसलिए आई क्योंकि कोरोना की वजह से आर्थिक गतिविधियों वाले ठप रहे हैं
  • फिस्कल डेफिसिट सरकार की कुल आय और खर्च के बीच के अंतर को कहते हैं

केंद्र सरकार के 2020-21 के बजट अनुमान की तुलना में फिस्कल डेफिसिट में 135.1% की पास हुई है। नवंबर में यह आंकड़ा 10.75 लाख करोड़ रुपये हो गया है। यह इसलिए हुआ है क्योंकि रेवेन्यू में कमी आई है। रेवेन्यू में कमी इसलिए आई क्योंकि कोरोना की वजह से आर्थिक गतिविधियों वाले ठप रहे हैं।

2019-20 फिस्कल डेफिसिट 114.80 पर्सेंट है

2019-20 के बजट अनुमान से अगर तुलना करें तो नवंबर में फिस्कल डेफिसिट 114.8% रहा है। फिस्कल डेफिसिट सरकार की कुल आय और खर्च के बीच के अंतर को कहते हैं। कंट्रोलर जनरल ऑफ अकाउंट की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, कुल फिस्कल डेफिसिट 10 लाख 75 हजार 507 करोड़ रुपये रहा।]मार्च से देश में लागू लॉकडाउन की वजह से आर्थिक गतिविधियों के बंद होने से सरकार के रेवेन्यू पर बुरा असर दिखा रहा है।

जुलाई में फिस्कल डेफिसिट का लक्ष्य पार हो गया था

इस साल जो लक्ष्य फिस्कल डेफिसिट का रखा गया था वह जुलाई में ही पार हो गया था। तब से लगातार फिस्कल डेफिसिट बढ़ते जा रहा है। सरकार का कुल रेवेन्यू नवंबर में 8 लाख 30 हजार 851 करोड़ रुपये था। यह 2020-21 के बजट अनुमान की तुलना में 37% रहा है। इसमें 6 लाख 88 हजार 430 करोड़ रुपए टैक्स से है। 1 लाख 24 हजार 280 करोड़ रुपए अवैध टैक्स साधनों से है। 18 हजार 141 करोड़ रुपए नॉन डेट कैपिटल से लिया जा रहा है।

नॉन डाट कैपिटल में भी कमी

नॉन डाट कैपिटल का मतलब लोन की रिकवरी और कंपनियों में बिकने वाली भाग से प्राप्त पैसों से है। 2020-21 के बजट अनुमान की तुलना में टैक्स रे एवेन्यू से कलेक्शन 42.1% रहा है। अवैध टैक्स रेवेन्यू 32.3% रहा है। आंकड़ों के मुताबिक कुल टैक्स में से 3.34 लाख करोड़ रुपए केंद्र सरकार ने राज्यों को ट्रांसफर कर दिया। क्योंकि इस कर में राज्यों का भी हिस्सा था।

63% खर्च किया गया है

सरकार ने बजट अनुमान की तुलना में लगभग 63% खर्च किया है। इसकी राशि लगभग 19 लाख 6 हजार 358 करोड़ रुपये है। कुल रेवेन्यू खर्च में से 3.83 लाख करोड़ रुपए ब्याज के पेमेंट और 2.02 लाख करोड़ रुपए के रूप में खर्च हुआ। इस वित्त वर्ष में सरकार ने फिस्कल डेफिसिट का लक्ष्य 7.96 लाख करोड़ रुपये रखा है। हालांकि इस आंकड़ों को सरकार सुधार सकती है।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments