Home ब्लॉग लगातार पांच महीने में एफआईआई का निवेश: फरवरी में 25,787 करोड़ रुपये...

लगातार पांच महीने में एफआईआई का निवेश: फरवरी में 25,787 करोड़ रुपये का निवेश, आगे भी बाजार के लिहाज से पैसा लगाना होगा


  • हिंदी समाचार
  • व्यापार
  • शेयर बाजार में एफआईआई निवेश, इक्विटी बाजार में एफआईआई निवेश, एफआईआई निवेश, शेयर बाजार निवेश

विज्ञापन से परेशान हैं? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुंबई32 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट
  • 26 फरवरी को बाजार में लगभग 2 हजार अंकों की गिरावट हुई। इन निवेशकों ने 1,700 करोड़ रुपये का निवेश किया
  • सेंसेक्स पिछले 10 दिनों में 3,400 अंक से ज्यादा टूट चुका है। पर विदेशी अधिकारियों का भरोसा लगातार बना हुआ है

विदेशी संस्थागत निवेश (एफआईआई) भारतीय अस्थिर बाजार में लगातार निवेश बनाए रखेगा। पिछले 5 महीनों से ये लगातार शुद्ध निवेश कर रहे हैं। अब तक इन महीनों में 1.87 लाख करोड़ रुपये का निवेश किया जा चुका है। इसमें से फरवरी महीने में 25,787 करोड़ रुपये का निवेश हुआ है।

बाजार में इस साल की सबसे बड़ी गिरावट

इसी तरह 26 फरवरी को बाजार में जब लगभग 2 हजार अंकों की गिरावट हुई थी, तब भी इन निवेशकों ने 1,700 करोड़ रुपए से ज्यादा इक्विटी बाजार में निवेश किया था। इस साल की यह सबसे बड़ी गिरावट रही है। सेंसेक्स पिछले 10 दिनों में 3,400 अंक से ज्यादा टूट चुका है। पर विदेशी अधिकारियों का भरोसा लगातार बना हुआ है। 16 फरवरी को सेंसेक्स 52 हजार 516 पर था जबकि शुक्रवार को यह 49,100 पर पहुंच गया था।

तीसरी तिमाही में जीडीपी में वृद्धि

जानकारों के मुताबिक, तीसरी तिमाही में देश का सकल घरेलू उत्पाद (GDP) पॉजिटिव रहा है। जीडीपी की ग्रोथ दसवीं में 0.4% बढ़ रही है। दो तिमाहियों के बाद यह दिखी है। साथ ही अभी तक GST, ऑटो के आंकड़ों के साथ तीसरी तिमाही के कंपनियों के रिजल्ट अच्छे रहे हैं। ऐसे में विदेशी निवेशक भारतीय बाजार में बने रहेंगे।

चौथी तिमाही में बहुत अच्छा रहेगा जीडीपी

जी के मुताबिक, चौथी तिमाही में जीडीपी की अच्छी ग्रोथ रहेगी। हालांकि यह सालाना आधार पर भले ही निगेटिव में रहेगा, पर तिमाही आधार पर इसमें ग्रोथ रहेगी। इसी तरह से चौथी तिमाही में कंपनियों की आय अच्छी रहेगी। तीसरी तिमाही में कंपनियों का रिजल्ट उम्मीदों से ज्यादा रहा है।

अर्थव्यवस्था में तेजी बनी रहेगी

तीसरी तिमाही की तुलना में चौथी तिमाही में अर्थव्यवस्था पूरी तरह से खुली रहेगी। साथ ही वैक्सीन का टीका भी तेजी से लगेगा। ऐसे में अर्थव्यवस्था के खुलने का पूरा असर सकल घरेलू उत्पाद और बाजार पर है। शेयर के मुताबिक, शेयर बाजार अब 50 हजार के आस-पास ही कारोबार करेगा। पूरी दुनिया में भारतीय शेयर बाजार में निवेशकों को बेहतर रिटर्न मिल रहा है।

जनवरी में 19,743 करोड़ का निवेश

आंकड़े बताते हैं कि जनवरी में विदेशी निवेशकों ने भारतीय शेयर बाजार में शुद्ध रूप से 19,743 करोड़ रुपये का निवेश किया था। दिसंबर में 60 हजार करोड़ तो नवंबर में 62 हजार करोड़ रुपये का निवेश किया गया था। अक्टूबर में 19 हजार करोड़ से ज्यादा का निवेश था। वैसे देखा जाए तो मई से इन निवेशकों ने लगातार निवेश किया था, सितंबर में 7,700 करोड़ रुपये निकाले गए थे। पिछले साल अगस्त में इन निवेशकों ने बाजार में 47 हजार करोड़ रुपये का निवेश किया था।

ये हैं उनके पसंदीदा सेक्टर

विदेशी निवेशकों के जो पसंदीदा सेक्टर हैं, उसमें टोटल फाइनेंशियल सेक्टर में 1,247 करोड़ रुपये का निवेश किया गया है। अन्य फाइनेंशियल सेक्टर में 1,771 करोड़ रुपये, टेलीकॉम में 1,804 करोड़ रुपये, मेटल एंड माइनिंग में 1,986 करोड़, कैपिटल गुड्स में 2,714 करोड़ रुपये और औटो मोबाइल और इसके कलपुर्जे में 2,794 करोड़ रुपये का निवेश किया है।

फार्मा सेक्टर में भी निवेश किया हुआ

इससे पहले दिसंबर में इन निवेशकों का पसंदीदा सेक्टर फार्मा था। फार्मा ने अच्छा प्रदर्शन किया है। बैंकिंग सेक्टर के शेयरों का हालांकि अच्छा प्रदर्शन नहीं रहा था। अब बैंकिंग सेक्टर में भी यह निवेश किए जा रहे हैं। आईटी सेक्टर में ये लगातार निवेश कर रहे हैं। इसी तरह एफएमसीजी और कंज्यूमर में भी ये निवेशक लगातार शेयर खरीद रहे हैं।

खबरें और भी हैं …





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments