Home मध्य प्रदेश लापरवाही तब निलंबन: दो जोनल और छह अधिकारियों को निलंबित का नोटिस,...

लापरवाही तब निलंबन: दो जोनल और छह अधिकारियों को निलंबित का नोटिस, 3 दिन में जवाब मांगा


विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

इंदौर34 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

फाइल फोटो

इंदौर नगर निगम के द्वारा दो जोनल एवं पर पदस्थ छह अधिकारियों को निलंबित कर देने का नोटिस जारी किया गया है। इन अधिकारियों से 3 दिन में जवाब मांगा गया है। इन अधिकारियों के द्वारा प्राइमरी सीवरेज लाइन की सफाई के काम पर ध्यान नहीं दिया जाना उन्हें भारी पड़ रहा है।

नगर निगम आयुक्त प्रतिभा पाल के द्वारा हरसिद्धि के जोनल कार्यालय क्रमांक 12 के जोनल अधिकारी मनोज जैन, ड्रेसेज सुपरवाइजर, अरविंद खोड़े और उपयंत्री पंकज शर्मा को नोटिस जारी किया गया है इसके साथ ही जो जो कार्यालय कार्यालय क्रमांक 15 के उपयंत्री वसीम खान राजेश चढढा और योगेंद्र गंगराड़े हैं। को भी नोटिस जारी किया गया है ये सभी को जारी किए गए नोटिस में उनके द्वारा कार्य के निर्वहन में बढ़ती जा रही लापरवाही को स्पष्ट करते हुए कहा गया है कि क्यों न उन्हें निलंबित कर दिया जाए। इस बारे में इन सभी से 3 दिन के अंदर जवाब मांगा गया है।

इस नोटिस में कहा गया है कि स्वच्छता सर्वेक्षण 2021 को ध्यान में रखते हुए शहर की प्राइमरी सीवरेज लाइन के चेंबरों की सफाई से संबंधित कार्य के बारे में प्रविष्टियों में निर्देश दिए जाने के बाद भी आपके द्वारा इस कार्य के सही तरीके से लागू होने पर निर्धारित ध्यान नहीं है। दिया गया जो उस कार्य के प्रति लापरवाही और उदासीन रवैया को स्पष्ट करता है इसके अलावा कार्य के संबंध में आपके द्वारा गलत और भ्रामक जानकारी दी गई जिन स्थानों पर कार्य की प्रगति तुलनात्मक रूप से देखी गई है वही कार्य के संपादन में विलंब की स्थिति है। हो रहा है।

आपके द्वारा इस कार्य में सही तरीके से नियंत्रण और दिखने नहीं किए जाने के कारण चेंबर सफाई का कार्य स्तर में भी गिरावट हुई है यह स्थिति निश्चित रूप से स्वच्छता सर्वेक्षण के कार्य के लिए जारी किए गए निर्देशों की अवहेलना है।इस नोटिस में कहा गया है। है कि आपके द्वारा आवंटित दायित्व का समुचित तरीके से निर्वहन नहीं करते हुए प्राइमरी सीवरेज लाइन की निकासी संबंधी कार्य का ध्यान देकर बराबर भुगतान किया गया है। आपके द्वारा स्वैच्छिक कार्य प्रणाली के आधार पर काम किया जा रहा है जो कार्य के प्रति लापरवाही को स्पष्ट करता है। इस बारे में बार-बार जो निर्देश दिया गया है उसका भी आपके द्वारा पालन नहीं किया गया। इस स्थिति को देखते हुए क्यों न मध्यप्रदेश सिविल सेवा वर्गीकरण नियंत्रण और अपील नियम 1966 के प्रावधानों के तहत आप को निलंबित कर दिया जाना चाहिए।

नगर निगम के द्वारा पहली बार काम में लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों की जिम्मेदारी का निर्धारण किया जा रहा है। अब तक तो ऐसा होता रहा है कि अधिकारियों के द्वारा काम नहीं किया जाता है फिर भी फर्जी रिपोर्ट बनाकर निगम मुख्यालय में भेज दी जाती है। उस रिपोर्ट को आधार मानकर अधिकारियों को बेहतर कार्य करने वाला मान लिया जाता है। अब पहली बार ऐसा हो रहा है जब गलती करने वाले अधिकारियों को इस तरह नोटिस देकर उन पर निलंबन की गाज गिराने की तैयारी की जा रही है।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments