Home देश की ख़बरें विदेशी निवेश: विदेशी मस्क की कंपनी टेस्ला अगले साल भारत में बिक्री...

विदेशी निवेश: विदेशी मस्क की कंपनी टेस्ला अगले साल भारत में बिक्री केंद्र खोलेगी, यूनिटिंग यूनिट भी लगा सकती है: गडकरी


  • हिंदी समाचार
  • व्यापार
  • एलोन मस्क कंपनी टेस्ला को भारत में बिक्री केंद्र खोलने के लिए अगले साल गडकरी कहते हैं

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्लीएक घंटा पहले

  • कॉपी लिस्ट

देश के 8 लाख करोड़ रुपये के भारी भरकम क्रूड आयात को कम करने के लिए सड़क, परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय पर्यावरण अनुकूल ईंधन और इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा दे रहा है।

  • टेस्ला इंक के को-एक्टिवर और सीईओ जेन मस्क ने खुद भी अक्टूबर में कहा था कि कंपनी 2021 में भारतीय बाजार में प्रवेश करेगी
  • केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि भारत अगले 5 साल में इलेक्ट्रिक व्हीकल (EV) का दुनिया का सबसे बड़ा उत्पादक बन जाएगा।

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने सोमवार को कहा कि अमेरिका की इलेक्ट्रिक कार निर्माता कंपनी टेस्ला अगले साल भारत में कारोबार शुरू कर रही है। यदि मांग अच्छी दिखी तो कंपनी भारत में निवेश इकाई भी लगा सकती है। देश के 8 लाख करोड़ रुपये के भारी भरकम क्रूड आयात को कम करने के लिए सड़क, परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय पर्यावरण अनुकूल ईंधन और इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा दे रहा है।

टेस्ला इंक के को-एक्टिवर और सीईओ जेन मस्क ने खुद भी अक्टूबर में कहा था कि कंपनी 2021 में भारतीय बाजार में प्रवेश करेगी। गडकरी ने कहा कि टेस्ला अगले साल अपनी कारों के लिए भारत में डिस्ट्रीब्यूशन सुविधा (बिक्री केंद्र) लगाएगी और मांग को देखते हुए वह परिवहन इकाई लगाने पर भी विचार कर सकती है। उन्होंने कहा कि भारत अगले 5 साल में इलेक्ट्रिक व्हीकल (EV) का दुनिया का सबसे बड़ा उत्पादक बन सकता है।

भारत ने 2030 तक कार्बन उत्सर्जन में 30-35% कटौती करने का वादा किया है

मंत्री ने कहा कि भारत ने 2030 तक कार्बन प्रावधानों में 30-35 प्रतिशत कटौती करने का वादा किया है। साथ ही मंत्रालय 8 लाख करोड़ रुपए के कच्चे माल को कम करने का प्रयास कर रहा है। इसलिए ग्रीन फ्यूल और बिजली और ईवी पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि भारत पावर सरप्लस देश है इसलिए यहां ई-मोबिलिटी सल्लूशन के काफी लाभ मिलेंगे।

ईवी के बाजार का विस्तार करने के लिए सरकर प्रोत्साहन देना चाहता है

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार 2030 तक देश में EV सेल्स का पेनीट्रेशन निजी कारों के लिए 30 फीसदी, कमर्शियल कारों के लिए 70 फीसदी, बसों के लिए 40 फीसदी और पहहिया व तिपहिया के लिए 80 फीसदी करना चाहती है। इसके लिए र्क प्रकार के इंसेंटिव्स दिए जाएंगे। इससे देश में EV बाज़ार का तेजी से विकास होगा।

देश के हर एक पेट्रोल पंप पर सरकार ई-चार्जिंग किऑस्क लगाना चाहती है

उन्होंने कहा कि देश में करीब 69,000 पेट्रॉल पंप हैं और उनमें से हर एक पर सरकार ई-चार्जिंग कियोस्किंग चाहती है, ताकि ईवी की स्वीकृति बढ़े। EV के मामले में नंबर एक बनने के बारे में सोचने का यह सही समय है, क्योंकि भारत में रॉ मटेरियल्स और प्रोटेक्टिव लेबर उपलब्ध हैं।) इसी साल अक्टूबर में जेन मस्क से एक सोशल नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म पर टेस्ला के इंडिया प्लान के बारे में पूछा गया था, तो जवाब में उन्होंने कहा था कि अगले साल निश्चित रूप से।

महाराष्ट्र सरकार ने पहले कहा था कि वह टेस्ला की ओर से निवेश की उम्मीद कर रही है

महाराष्ट्र सरकार ने पहले कहा था कि वह टेस्ला से संभावित निवेश की उम्मीद कर रही है और इस बारे में उसकी कंपनी के साथ बात भी हुई है। महाराष्ट्र में पहले से ही कई घरेलू और विदेशी वाहन निर्माता कंपनी की कंपनी की है। पुणे के नज़दीक चकन औद्योगिक बेल्ट में एक बड़ा अटैक हब है।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments