Home खेल जगत विनेश फोगाट ने जीता गोल्ड मेडल: यूक्रेन में चल रहे रैसलिंग इवेंट...

विनेश फोगाट ने जीता गोल्ड मेडल: यूक्रेन में चल रहे रैसलिंग इवेंट के फाइनल में 2017 की वर्ल्ड चेनियन वेनेसा को 10-8 से


  • हिंदी समाचार
  • खेल
  • रेसलर विनेश फोगट ने महिला 53 किलोग्राम में स्वर्ण पदक जीता, जिसमें उक्रेन के रेसलर और कोच स्मारकीय इवेंट में शामिल हैं।

विज्ञापन से परेशान हैं? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जीवी3 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

विनेश पहले ही 53 किग्रा वर्ग में टोक्यो ओलिंपिक के लिए क्वालिफाई कर चुके हैं। वे ओलिंपिक के लिए क्वालिफाई करने वाली भारत की इकलौती वुमन रेसलर हैं। (फाइल फोटो)

यूक्रेन की राजधानी कीव में जा रही XXIV आउटस्टैंडिंग यूक्रेनियन रेसलर्स और कोचेस मेमोरियल में भारत की दिग्गज रेसलर विनेश फोगाट ने गोल्ड मेडल जीता है। उन्होंने रविवार को 53 किग्रा वर्ग में 2017 की विश्व चैंपियनशिप और विश्व नंबर -7 बेलारूस की वेनेसा कलाजिंचित को 10-8 से हरा दिया। विनेश एक साल बाद कोई आंतरिक टूर्नामेंट खेल रहे थे।

टोक्यो ओलिंपिक के लिए पहले केवल क्वालिफाई कर दिया गया
विनेश ने शनिवार को सेमीफाइनल में रोमानिया की एना ए को 2-0 से लैपटॉप था। राउंड ऑफ -16 में लूलिया लिओर्डा और क्वार्टरफाइनल में कैट्सियारिना पिककोसाइड को देखा गया। वे नवंबर, 2020 से यूरोप में प्रशिक्षण कर रहे हैं। लॉकडाउन में विनेश हरियाणा में अपने गांव में प्रैक्टिस कर रहे थे। जबकि, उनके कोच वोलर वनोस बुश से वर्चुअली विनेश के रुतीन का ध्यान रखते थे।

2 कॉमनवेल्थ गेम्स और 1 एइसी गेम्स में गोल्ड जीतें
इस साल की शुरुआत में वे बुडापेस्ट में फिर से अपने कोच से जुड़ गए थे। विनेश पोल में कुछ टॉप रेसलर्स के साथ ट्रेनिंग कर रही थीं। अब वे रोमडेगा। वहाँ 4 से 7 मार्च तक होने वाले सीजन के पहले रैंकिंग टूर्नामेंट में भाग लेंगी। विनेश ने कॉमनवेल्थ गेम्स (2014,2018) में 2 और एशियन गेम्स (2018) में 1 गोल्ड मेडल जीता है।

जिस पैर में फ्रैक्चर से विनेश को छोड़नी पड़ी पाउट, उसी को लोहे के रूप में बनाया गया
विनेश को 2016 के रियो ओलिंपिक में पैर में फ्रैक्चर होने के बीच में पाउट छोड़नी पड़ी थी। वे 6 महीने बिस्तर पर रहे। एक्सरसाइज नहीं कर रहे थे इसलिए खुद को दिमागी रूप से मजबूत कर रहे थे। कठिन कर उन्होंने 2018 में कॉमनवेल्थ और एशियाड में गोल्ड जीता। 2019 में विश्व सीनियर पंजीकरण में ब्रॉन्ज मेडल जीत टोक्यो ओलिंपिक का टिकट पक्का किया गया। विशेषज्ञों ने पैर बचाकर खेलने की सलाह दी, पर विनेश ने लेग अटैक को अपनी दृढ़ता बनाई। विश्व श्रृंखलाकरण में भी अंक मिलेने में लेग अटैक का सबसे ज्यादा उपयोग किया गया।

4 पहलवानों ने अब तक ओलिंपिक कोटा हासिल किया था
विनेश पहले ही 53 किग्रा वर्ग में टोक्यो ओलिंपिक के लिए क्वालिफाई कर चुके हैं। वे ओलिंपिक के लिए क्वालिफाई करने वाली भारत की इकलौती वुमन रेसलर हैं। जबकि पुरुषों में बजरंग पूनिया, दीपक पूनिया और राव दहिया ने अपने- अपने वेट कैटरी गिरी में उद्धृत किया है।]हालांकि भारतीय पहलवानों के पास ओलिंपिक कोटा हासिल करने के लिए अभी तक कुछ मौके हैं। अगले साल कजाखिस्तान में 9 से 11 अप्रैल तक एशियन क्वालिफायर और बुल्गारिया में 6 से 9 मई तक वर्ल्ड क्वालिफायर होना चाहिए।)

विनेश को मिला खेल रत्न
विनेश फोगाट को पिछले साल ही राजीव गांधी खेल रत्न से सम्मानित किया गया। उनके साथ क्रिकेटर रोहित शर्मा, टेबल टेनिस खिलाड़ी मोनिका बत्रा, पैरा-एथलीट मारियप्पन थंगावेलु और महिला हॉकी टीम की कप्तान रानी रामपाल को भी यह सम्मान मिला था। विनेश कोरोना पॉजिटिव भी हुए थे।

खबरें और भी हैं …





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments