Home मध्य प्रदेश वैक्सीनेशन: भोपाल में 5 मार्च से शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों के 43...

वैक्सीनेशन: भोपाल में 5 मार्च से शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों के 43 से अधिक केंद्र पर लगेगी वैक्सीन


विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भोपाल30 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

कलेक्टर अविनाश लवानिया ने वैक्सीनेशन की समीक्षा बैठक करते हुए सीएमएचओ, जिला पंचायत सीईओ, जिला टीकाकरण अधिकारी और अन्य अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में वैक्सीनेशन की गति को बढ़ाया जाए और इसके अधिक से अधिक वैक्सीनेशन केंद्र बनाए जाएं।

  • कलेक्टर अविनाश लवानिया ने वैक्सीनेशन की समीक्षा बैठक में दिए निर्देश, अभी भी 20 केंद्रों पर लग रही वैक्सीन

भोपाल में 5 मार्च से 43 से अधिक केंद्र पर वैक्सीनेशन किया जाएगा। ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में टीकाकरण का कार्य शुरू होगा। इसके साथ ही निजी अस्पतालों में भी स्वयं के व्यय पर वैक्सीनेशन किए जा सकते हैं इसमें केंद्र सरकार की जारी की गई गाइड लाइन का पालन अनिवार्य होगा।

कलेक्टर अविनाश लवानिया ने वैक्सीनेशन की बुधवार को समीक्षा बैठक करते हुए सीएमएचओ, जिला पंचायत सीईओ, जिला टीकाकरण अधिकारी और अन्य अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में वैक्सीनेशन की गति को बढ़ाया जाए और इसके लिए अधिक से अधिक वैक्सीनेशन सेंटर बनाए जाएं। । उन्होंने कहा कि शहरी क्षेत्रों में पोलिंग बूथ के आधार पर ही वैक्सीनेशन किया जाएगा। इसके लिए किसी एक पोलिंग बो को वैक्सीनेशन सेंटर बनाकर उससे जुड़े हुए के अन्य पोलिंग बूथ से लोगों को लाकर वैक्सीनेशन मेड होना चाहिए। लवानिया ने कहा कि इस कार्य के लिए आशा, आंगनवाड़ी, नगर निगम, स्वास्थ्य कर्मी और अन्य कार्यकर्ताओं की टीम को भी नियुक्त किया जाएगा। बैठक में एडीएम, एसडीएम, स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी और निजी चिकित्सालयों के प्रबंधक भी उपस्थित थे।

कलेक्टर ने कहा कि वैक्सीनेशन के लिए 60 साल से अधिक उम्र के बुजुर्ग लोगों के साथ ही 45 से 59 साल तक के गंभीर बीमारी से ग्रसित व्यक्ति आकर अपना वैक्सीनेशन करा सकते हैं, बीमार लोगों को मेडिकल सर्टिफिकेट साथ में लाना अनिवार्य होगा। उन्होंने निर्देश दिया कि सभी एसडीएम, तहसीलदार और अन्य अधिकारी वैक्सीनेशन के अपने स्तर पर समीक्षा कर लें। ग्रामीण क्षेत्रों में ग्राम पंचायत स्तर पर वैक्सीनेशन केंद्र बनाए जाएं, साथ ही यह भी सुनिश्चित किया जाए की वैक्सीनेशन केंद्र पर तीन कमरे अवश्य हों। सभी नागरिकों को यह बताया गया कि वैक्सीनेशन सेंटर पर आधार या ऐसा कोई परिचय पत्र लाना अनिवार्य होगा।

वैक्सीनेशन का पहला डोज लगने के बाद दूसरा डोज 28 दिन के बाद लगाया जाएगा और उसी वैक्सीन का डोज लगाया जाएगा जो पहले लगा दिया गया है। इसके लिए संबंधित व्यक्ति को सूचना मोबाइल पर दी जाएगी। उसी केंद्र पर उन्हें दूसरा डोज लगाया जाएगा। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि दूसरे वैक्सीन के डोज को 29 से 45 दिन में अनिवार्य रूप से लगाया जाए, अगर 29 दिन के बाद एसएमएस आने पर वैक्सीन नहीं लग पाए तो उसका डेटा 45 दिन तक सुरक्षित रहेगा उसके बाद भी उसकी इंट्री कराई जाए सक्षम होना और वैक्सीन का दूसरा डोज लगाया जा सकेगा।

खबरें और भी हैं …





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments