Home देश की ख़बरें वैक्सीन पर कांग्रेसी राज्यों का स्टैंडबाय: मूल्यांकन, झारखंड और पंजाब के मंत्री...

वैक्सीन पर कांग्रेसी राज्यों का स्टैंडबाय: मूल्यांकन, झारखंड और पंजाब के मंत्री बोले- वैक्सीन पर सवाल उठाना ठीक नहीं है; हम केंद्र के साथ


  • हिंदी समाचार
  • राष्ट्रीय
  • कोरोना वैक्सीन पर कांग्रेस शासित राज्य खड़े हैं। राजस्थान, झारखंड और पंजाब के मंत्रियों ने कहा कि टीके पर सवाल करना सही नहीं है; हम केंद्र सरकार के साथ

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली2 घंटे पहले

  • कॉपी लिस्ट

कांग्रेस नेता शशि थरूर, जयराम रमेश ने कोरोना वैक्सीन पर सवाल खड़े किए थे।

16 जनवरी से देश में वैक्सीनेशन ड्राइव शुरू होना है। इस बीच, वैक्सीन पर सवाल खड़े करने वाली कांग्रेस दो खेमों में बंट गई है। शशि थरूर, जयराम रमेश जैसे कई नेताओं ने वैक्सीन पर सवाल खड़े किए तो कांग्रेसी राज वाले राज्य पंजाब, झारखंड और राज्य के मंत्री वैक्सीन के पक्ष में खड़े हो गए हैं। इन राज्यों के मंत्रियों ने साफ कहा कि वैक्सीन पर किसी तरह का सवाल उठाया जाना ठीक नहीं है। झारखंड के मंत्री ने तो यहां तक ​​कह दिया कि जनहित के मामलों में वह केंद्र सरकार के साथ खड़े हैं। वहां कांग्रेस गठबंधन की सरकार है।

रेटेड के स्वास्थ्य मंत्री बोले- वैक्सीन पर भरोसा करना चाहिए
राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने कहा, ‘जब केंद्र सरकार हमें वैक्सीन उपलब्ध करा रही है, तो उस पर बेवजह सवाल नहीं उठाना चाहिए। वैक्सीन के ट्रायल हो चुके हैं। जब पीएम ने खुद सभी के साथ बैठकें की हैं, तो मुझे नहीं लगता कि वैक्सीन को लेकर किसी भी तरह के सवाल किए जाने चाहिए। ‘ शर्मा ने पूरे राज्य में वैक्सीनेशन ड्राइव की तैयारियों के बारे में भी बताया।

पंजाब के मंत्री बोले- वैक्सीन से सभी का फायदा
पंजाब के खाद्य और सप्लाई मिनिस्टर भारत भूषण ने कहा, ‘को विभाजित -19 वैक्सीनेशन को विवादों में लाने की कोई जरूरत नहीं है। ये सभी के फायदे के लिए है। ये भारत और पूरी मानवता के लिए बड़ी उपलब्धि है। केंद्र सरकार ने सभी राज्यों में ड्राई रन बनाया है। हम लोगों को इसमें किसी तरह के विवाद से बचना चाहिए। मैं उन वैज्ञानिकों को शुक्रिया कहना चाहता हूं जो को विभाजित -19 वैक्सीन को तैयार किया है। ‘

झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बोले- जनहित के लिए केंद्र के साथ
झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा, ‘हम सार्वजनिक वेलफ़ेयर और राष्ट्रीय वेलफ़ेयर के मुद्दों पर राजनीति नहीं करते हैं। वैक्सीन के मामले में हम पूरी तरह से केंद्र सरकार के साथ खड़े हैं। मैं सिर्फ इतना कहना चाहूंगा कि किसी भी वैक्सीन का उपयोग करने से पहले केंद्र सरकार को इसकी प्रामाणिकता, प्रासंगिकता और उपयोगिता को समझना होगा।) इसका प्रॉपर एक्सरसाइज जरूरी है। इस देश के लोगों को रायपुर नहीं बनाया जाना चाहिए। ‘

वैक्सीन पर अब तक लोगों ने क्या कहा था?

  • समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव: ताली-थाली बजवाकर कोरोना को भगाने वाली सरकार पर भरोसा नहीं किया जा सकता था। भाजपा सरकार की वैक्सीन लगवाने की उस चिकित्सा व्यवस्था पर निर्भर नहीं कर सकती, जो कोरोनाकाल में ठप्प-सी पड़ी रही। हम भाजपा की राजनीतिक वैक्सीन नहीं लगवाएंगे। जब हमारी सरकार बनीगी, तब हम मुक्त में वैक्सीन लगवाएंगे।
  • कांग्रेस नेता राशिद अल्वी: जिस तरह से भाजपा और प्रधानमंत्री सीबीआई, इनकम टैक्स डिपार्टमेंट और ईडी का इस्तेमाल विपक्षी नेताओं के खिलाफ कर रहे हैं, मुझे लगता है कि अखिलेश यादव का यह डर गलत नहीं है कि वैक्सीन का भी गलत इस्तेमाल हो सकता है। जिस तरह से सरकार विपक्षी नेताओं के खिलाफ काम कर रही है, यह डर वाजिब है।
  • कांग्रेस सांसद शशि थरूर: कोविक्सिन ने अभी तक अपना तीसरा ट्रायल भी पूरा नहीं किया है। जल्दबाजी में वैक्सीन को मंजूरी दी गई। यह खतरनाक हो सकता है। उन्होंने कहा कि जब तक ट्रायल पूरा नहीं हो जाता, तब तक इसके इस्तेमाल से बचा जाना चाहिए। इस दौरान भारत एस्ट्रजनेका वैक्सीन के साथ आगे बढ़ सकता है। स्वास्थ्य मंत्री को मामले को स्पष्ट करना चाहिए।
  • कांग्रेस नेता जयराम रमेश: भारत बायोटेक एक फर्स्ट टैग इंटरग है, लेकिन हैरान करने वाली बात यह है कि कोवैक्सिन के फेज -3 ट्रायल से जुड़े प्रोटोकॉल, जिसे इंटरनेशनल लेवल पर मंजूर किया गया है, उसे मोडिफाई किया जा रहा है। स्वास्तथ मंत्री को इसका जवाब देना चाहिए।

कोविक्सिन और कोवीशील्ड को अप्रूवल मिला है
भारत बायोटेक की स्वदेशी कोवैक्सिन और सीरम इंस्टीट्यूट की कोवीशील्ड के इमरजेंसी यूज के लिए ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) ने मंजूरी दी है। वहीं, गोडस कैडिला हेल्थकेयर की गोकोव-डी को फेज -3 ट्रल का अप्रूवल मिला है। 16 जनवरी से देशभर में वैक्सीनेशन ड्राइव भी शुरू होगी। पहले फेज में 3 करोड़ लोगों को इसका डोज दिया जाना है।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments