Home अन्तराष्ट्रीय ख़बरें वैक्सीन सप्लाई में भी असमानता झलक रही: अमीर देशों ने पर्याप्त टीके...

वैक्सीन सप्लाई में भी असमानता झलक रही: अमीर देशों ने पर्याप्त टीके रिजर्व किए, कुल डोज में से आधे से 15% आबादी की जा रही थी।


विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

8 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

टीकों की देशों तक पहुंच के मामले में अमीरी-गरीबी की असमानता साफ झलक रही है।

दुनिया में कोरोना से बचाव के लिए बने टीकों का प्रसार तेजी से हो रहा है। यही कारण है कि टीकाकरण शुरू होने के तीन महीनों में ही लगभग 23.6 करोड़ डोज लग चुके हैं। ये संख्या दुनिया के कुलजीवों (लगभग 11.42 करोड़) से दोगुनी है। टीकों की देशों तक पहुंच के मामले में अमीरी-गरीबी की असमानता साफ झलक रही है।
378 वैक्सीन विकसित करने का काम जारी

  • 67 लाख के करीब डोज रोज लगाए जा रहे हैं।
  • दुनिया में 580 करोड़ रुपये हैं। इनमें से प्रत्येक का टीकाकरण होना है। उन्हें डोज देने में लंबा वक्त लग सकता है।
  • दुनिया की आबादी में से 18% आबादी 54 अमीर देशों की है। अपने लिए 40% डोज आरक्षित कर रहे हैं। यानी प्रत्येक नागरिक को ढाई डोज उपलब्ध रहेगा।
  • दुनिया में बन रहे कुल डोज में से आधे अमीर देशों के 15% लोगों के लिए हो रही है।

अमीरी का आलम
कनाडा ने प्रति व्यक्ति 11 डोज आरक्षित किए अन्य स्थानों पर प्रति व्यक्ति के हिसाब से आपूर्ति महज 1.5 डोज ही है।

  • जर्मनी ने ईयू से अलग जाकर भी डोज पाने का समझौता किया है।
  • कनाडा ने 11 डोज प्रति व्यक्ति के हिसाब से टीके पाने के समझौते किए हैं, प्रति व्यक्ति के हिसाब से दुनिया में ये सबसे ज्यादा हैं।
  • भारत में 30 करोड़ लोगों को इस साल अगस्त तक टीके लगाने की पर्याप्त व्यवस्था है। रूस और चीन में पर्याप्त डोज की व्यवस्था है।

दुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन निर्माता सीरम ने अपने उत्पादन का आधा हिस्सा भारत को सुरक्षित कर रखा है।

125 देश वैक्सीन से दूर

डब्ल्यूएचओ के मुताबिक दुनिया के करीब 125 देश ऐसे हैं जिनके पास अब तक एक भी डोज नहीं पहुंचा है।

खबरें और भी हैं …





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments