Home देश की ख़बरें शशिकला पर जयललिता को जहर देने का भी आरोप था, जानिए उनका...

शशिकला पर जयललिता को जहर देने का भी आरोप था, जानिए उनका पूरा सफर


राजनीति से दूर बेगी शशिकला। (फाइल तस्वीर)

जयललिता की करीबी बनी शशिकला (शशिकला) ने राजनीति से संन्यास की घोषणा की है। भ्रांति कुरताचार को एक मामला चल रहा था। वह चार साल की सजा काटने के बाद 27 जनवरी को जेल से बाहर आई।

नई दिलवाली तमिलनाडु विधानसभा चुनाव (तमिलनाडु विधानसभा चुनाव 2021) से पहले अन्नाद्रमुक (AIADMK) की निष्पक्ष नेता और दिवंगत मुख्यमंत्री जे जयललिता की करीबी वीके शशिकला (वीके शशिकला) ने बुधवार को घोषणा की कि वह राजनीति से दूर रहेंगी। शशिकला पर भ्रष्‍टाचारता को एक मामला चल रहा था। वह चार साल की सजा काटने के बाद 27 जनवरी को जेल से बाहर आई। शशिकलाँ के बाद से ही पार्टी में टूट पैदो हो गया था।

शशिकला ने जयललिता के समर्थकों से भाई-बहन की तरह काम करने की अपील की और यह भी उत्तीर्ण की कि वे यह सुनिश्चित करें कि जयललिता का स्वर्णयुगीन शासन जारी कर रहा है। उन्होंने जयललिता के सच्चे समर्थकों से छह अप्रैल के चुनाव में एकजुट होकर काम करने और दुश्मन को सत्ता में आने से रोकने की अपील की।

शशिकला का राजनीतिक सफर …
> 1957 में चेन्नेई (तब की ओर) से 330 किलोमीटर दूर TN के तंजौर जिले के थिरुथुरईपुंडी में शशिकला का जयंम हुआ था। शशिकला की मां का नाम कृष्णवणी और पिता का नाम विवेकानंदन है।> शशिकला की शादी एम नटराजन से हुई थी। वह तब तक TN सरकार में जनसंपर्क अधिकारी थे।

> 1980 के आसपास नटराजन ने दक्षिण अरकट जिले की तत्कालीन कलेक्टर वीएस चंद्रलेखा से एक अपील की थी कि वह शशिकला की जयललिता से मुलाकात करें। उन्होंने यह प्रस्ताव रखा कि शशिकला जयललिता के कार्यक्रमों की माँग करेंगी। इस प्रस्ताव को मान लिया गया और शशिकला करने लगीं। बाद में दोनों में गहरी दोस्ती हो गई थी।

> एक समय के दौरान जयललिता और शशिकला के बीच रिश्‍ते बिगड़ गए थे। 2011 में शशिकला पर यह आरोप लगे थे कि वह जयललिता को धीमा जहर देकर मारना चाहती हैं। आरोप लग रहे थे कि शशिकला अपने पति को अगले मुख्यमंत्री बनाना चाहती थीं। इन आरोपों के सामने आने के बाद शशिकला को पार्टी से निकाल दिया गया था। कुछ दिन बाद उनकी पार्टी में फिर से बदलाव हुआ।

> शशिकला जयललिता की सबसे करीबी थीं। राजनीतिक विश्लेषक एम वेंकटेशन के अनुसार जयललिता को ‘अम्मा’ बनाने में शशिकला का रोल अहम था।

> 2016 जयललिता के निधन के बाद शशिकला को एआईएडीएमके का महासचिव बनाया गया था। बाद में शशिकला हो ही TN का अगला सीएम बनाने के प्रयास शुरू किए गए थे। वह विधायक दल के नेता के रूप में भी गए थे। इस बीच कोर्ट ने आय से अधिक संपत्ति के मामले में शशिकला को चार साल कैद की सजा सुना दी थी।

> जब शशिकला को जेल हुई तो 2017 में उन्हें एआईएडीएमके से हटा दिया गया। पलानीसामी और ओ पनीरसेल्वम ने अन्नाद्रमुक के अपने-अपने धड़ों का विलय कर दिया। शशिकला के भांजे टीटीवी शंकरन सहित कई लोगों को पार्टी से निकाला गया था।







Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments