Home अन्तराष्ट्रीय ख़बरें शुद्धिकरण अभियान: चीन में न्यायपालिका, पुलिस में वफादारों की पहचान के लिए...

शुद्धिकरण अभियान: चीन में न्यायपालिका, पुलिस में वफादारों की पहचान के लिए शुद्धि मुहिम, इसलिए जिनपिंग के खिलाफ आवाज नंगे


  • हिंदी समाचार
  • अंतरराष्ट्रीय
  • चीन में न्यायपालिका, पुलिस में वफादारों की पहचान करने के लिए एक शुद्धिकरण अभियान, ताकि जिनपिंग के खिलाफ कोई आवाज न उठाई जा सके

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

10 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

चीन में 80 साल पहले माओ ने नियंत्रण करने का अभियान चलाया था।

चीन में राष्ट्रपति शी जिनपिंग का कार्यकाल 2023 में पूरा होना है, लेकिन उन्होंने सत्ता पर पकड़ बनाए रखने के लिए शुद्धिकरण अभियान छेड़ दिया। 8 साल से शीर्ष पद पर बने जिनपिंग की यह कवायद घरेलू सिक्योरिटी फोर्स के लिए गहरी चिंता का सबब बन गई है।]27 फरवरी को कम्युनिस्ट पार्टी ने ऐलान किया कि वह बहुप्रतीक्षित शुद्धिकरण अभियान छेड़ेगी।

इसमें कम्युनिस्ट पार्टी और शीर्ष नेता शी जिनपिंग के प्रति वफादारी नहीं रखने के साथ लोगों की पहचान की जाएगी। सरकार नियंत्रक मीडिया ने इसे 1990 के बाद घरेलू सिक्योरिटी सिस्टम में शुरू होने वाला सबसे बड़ा अभियान बताया है। इसके जरिये पुलिस, सीक्रेट पुलिस, न्यायपालिका और जेलों में यह सुनिश्चित किया जाएगा कि ये एजेंसियां ​​पूरी तरह से वफादार, अनुकरण और विश्वसनीय हों।

अधिकारी मानते हैं कि यह अभियान 1940 की शुरुआत में सुधार सुधारभयन की तरह है। उस समय कम्युनिस्ट पार्टी के तत्कालीन नेता माओ ने नियंत्रण स्थापित करने के लिए व्यापक सफाई अभियान चलाया था। ये महत्वपूर्ण है कि चीन में 1990 के बाद ऐसे ही एक और अभियान की जरूरत बताई जा रही थी। 2012 में सत्ता संभालने के बाद जिनपिंग ने भ्रष्टाचार से लड़ाई लड़ी है। रक्षा पृष्ठभूमि वाले आक्रामक अफसरों सहित हजारों अफसरों को सजा दी गई।

दशक का सबसे महत्वपूर्ण राजनीतिक जमावड़ा, 10 साल का ब्लू प्रिंट जारी होगा

चीन की सबसे बड़ी वार्षिक राजनीतिक बैठक गुरुवार से शुरू होगी। इसमें 14 वें पंचवर्षीय योजना का खुलासा किया जाएगा और शी जिनपिंग के विजन -2035 पर भी चर्चा होगी। इससे देश में ऐसा माहौल बनाया जाएगा, जो जिनपिंग की तीसरी पारी का मार्ग प्रशस्त करेगा। यूनिवर्सिटी ऑफ लंदन में एसओएएस बालना इंस्टीट्यूट के प्राे। स्टीव संग ने कहा कि कम्युनिस्ट पार्टी में ही कई नेता नहीं चाहते हैं कि जिनपिंग तीसरे बार चुना जाए। लेकिन वे बहुमत में नहीं हैं।

खबरें और भी हैं …





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments