Home कैरियर शेयर बाजार में पैसा लगाने वालों के लिए जरूरी खबर! SEBI ने...

शेयर बाजार में पैसा लगाने वालों के लिए जरूरी खबर! SEBI ने इस ब्रोकर को किया बैन


BSE का 30 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स शुरुआती कारोबार में 350 अंक लुढ़क गया

SEBI ने कार्वी स्टॉक ब्रोकरेज लिमि​टेड (KSBL) को नए क्लाइंट्स जोड़ने और मौजूदा क्लाइंट्स के ​लिए ट्रेडिंग पर बैन लगा दिया है. कंपनी पर आरोप है कि उसने अपने एक क्लाइंट के 2 हजार करोड़ रुपये की सिक्योरिटी को किसी सहायक कंपनी के हाथों बेच दिया है.


  • News18Hindi

  • Last Updated:
    November 23, 2019, 3:12 PM IST

नई दिल्ली. अगर आप  शेयर  बाजार (Stock Market) में निवेश करते हैं ये खबर आपको जरूर पढ़नी चाहिए. भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (SEBI) ने स्टॉक ब्रोकरेज कंपनी कार्वी स्टॉक ब्रोकिंग लिमिटेड (KSBL-Karvy Stock Brokers Limited) को एक ग्राहक का 2,000 करोड़ रुपये के डिफॉल्ट करने की वजह से बैन (Bans) कर दिया है. सेबी द्वारा कार्वी पर लगाया गया यह बैन तत्काल रूप से प्रभावी है. सेबी द्वारा लगाए गए बैन के मुताबिक, कंपनी अब न तो नए क्लाइंट्स को अपने साथ जोड़ सकती है और न ही मौजूदा ग्राहकों के लिए ट्रेड कर पाएगी.

एनएसई ने जांच में पाई बड़ी गड़बड़ी- नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE – National Stock Exchange) ने अपनी एक जांच में पाया था कि कथित रूप से कार्वी ने अपने ग्राहक का शेयर किसी संबंधित ईकाई को बेच दिया था. ​बाजार नियामक ने डिपॉजिटरीज को निर्देश दिया है कि वो कार्वी स्टॉक ब्रोकिंग के किसी निर्देश पर ध्यान न दें.

भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (SEBI)

ग्राहक क्या करें- एक्सपर्ट्स का कहना है कि अगर किसी का ब्रोकिंग खाता कार्वी में है तो उसे तुरंत बदल लेना चाहिए. यानी शेयर दूसरे ब्रोकिंग अकाउंट में शिफ्ट कर लेना ही सही होगी.ये भी पढ़ें: 1 दिसबंर से पहले कार पर क्यों जरूरी है फास्टैग लगवाना, यहां जानिए इससे जुड़े सभी सवालों के जवाब

पावर ऑफ अटॉर्नी का गलता इस्तेमाल-नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ने कहा है कि कार्वी स्टॉक ब्रोकिंग ने पावर ऑफ अटॉर्नी (Power of Attorney) का गलत इस्तेमाल किया है. कार्वी ने अपने क्लाइंट का सिक्योरिटी अपनी सहायक कंपनियों की मदद से बेचा है. इससे मिलने वाले फंड को कंपनी ने अपनी जरूरतों के लिए इस्तेमाल किया है.

सेबी ने कहा, ‘कर्वी स्टॉक ब्रोकरेज लिमिटेड ने इस बात को छिपाने के लिए जनवरी 2019 से लेकर अगस्त 2019 के दौरान नेशनल स्टॉक एक्सचेंज को दिए गए सबमिशन में इसका कोई जिक्र नहीं किया है.

ये भी पढ़ें: देशभर में सस्‍ती हो सकती है बिजली! इस कारण ग्राहकों को मिलेगी बड़ी राहत








Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments