Home मध्य प्रदेश शौर्य को मिला सम्मान: एलओसी पर शहीद हुए थे रंजन सिंह, तो...

शौर्य को मिला सम्मान: एलओसी पर शहीद हुए थे रंजन सिंह, तो शोपिया में आतंकवादियों से मुठभेड़ में शहादत को प्राप्त हुए रोहित यादव


विज्ञापन से परेशान हैं? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जबलपुर2 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

जवानों और दो वीर नारियों को सेना मेडल देकर किया गया।

  • दोनों शहीदों की वीर पत्नियों को मिला मेडल तो हर आंख हो गया नम
  • जवानों की दिलुरी और शौर्य सुनकर अभि से रोमांचित हो गया हर जवान

सेना के 20 जवानों के शौर्य और साहसुरी को सुनकर फख्र से सीना चौड़ा हाे गया। कर्त्तव्य की बेदी पर दो जवान शहीद हो गए। उनके मरणोपरांत उनकी वीर नारियों को लेफ्टिनेंट जनरल आईएस घुमन ने सेना के मेडल से सम्मानित किया तो हर आंख नम हो गई। नायक रवि रंजन सिंह जहां एलओसी पर दिलुरी दिखाते हुए शहादत को प्राप्त हुए थे। वहीं सिपाही रोहित कुमार यादव आतंकवादियों से लोहा लेते हुए शहीद हुए थे। जबलपुर छावनी स्थित ग्रेनेडियर्स रेजिमेंटल सेंटर (जीआरसी) के कर्नल होशियार सिंह, कला परेड ग्राउंड में इन वीर जवानों के लिए सम्मान समारोह आयोजित किया गया। मध्य कमान के आर्मींदरर लेफ्टिनेंट जनरल आईएस घुमन एक-एक जवानों को उनके शौर्यगाथा के बीच सम्मानित करते रहे, तो दर्शक दीर्घा में बैठे लोगों के तालियों की गड़गड़ाहट उनका हौसला बढ़ाती रही। जैसे ही माइक से शहीदेक रविरंजन सिंह का नाम गूंज तो उनकी वीर पत्नी रीता देवी का समन्वयियों से सामना हुआ। आर्मींदरर लेफ्टिनेंट जनरल आईएस घुमन ने सेना मेडल प्रदान किया।

शहीद पति को मिली सेना मेडल प्राप्त करती हुई पत्नी रीता देवी।

शहीद पति को मिली सेना मेडल प्राप्त करती हुई पत्नी रीता देवी।

20 अगस्त 2019 को एलओसी पर हुए थे शाहीद
पाकिस्तान ने २० अगस्त २०१ ९ को जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा पर स्थित चाकियाें और गांवा काे निशाना बनाकर भारी गाेलाबारी की थी। दुश्मन को मुंहतोड़ जवाब देते हुए गांव वालों को सुरक्षित बचाने में बिहार के रोहतास निवासी नायक रवि रंजन कुमार सिंह (36) शहीद हो गए थे। वहीं चार जवान घायल हो गए। राव के बड़े भाई सुनील भी आर्मी में हैं। रक्षा बंधन पर वह घर से लौटे थे।
2002 में सेना में भर्ती हुए थे
वर्ष 2002 में वे सेना में भर्ती हुए थे। परिवार में पत्नी रीता देवी, 9 वर्षीय पुत्र शशि कपूर, 7 वर्षीय पुत्री सतना कुमारी, 3 वर्ष का बेटा पीयूष कुमार है। डेहरी के गोपी बिगहा गाँव के रवि रंजन कुमार सिंह के पिता रामनाथ यादव ने कहा कि बेटे की शहादत पर अपमान प्रकट किया गया है।

पति को मरणोपरांत मिले सेना मेडल को प्राप्त करते हुए वीर पत्नी वैष्णवी यादव।

पति को मरणोपरांत मिले सेना मेडल को प्राप्त करते हुए वीर पत्नी वैष्णवी यादव।

आतंकियों से लोहा लेते हुए शहादत को प्राप्त हुए थे सिपाही रोहित कुमार यादव
सम्मानित होने वाले 20 जवानों में दूसरे शहीद रोहित कुमार यादव थे। उनकी पत्नी वैष्णवी यादव को ये सम्मान दिया गया। रोहित यादव (25) 17 वें राजपूताना राइफल्स की 44 वें आतंकवाद निरोध दस्ते में शामिल थे। 17 मई 2019 को दक्षिणी कश्मीर के शोपियां जिले के हंडेव गांव में अचानक आतंकियों से मुठभेड़ हो गई थी। इलाके में सेना की 44 आरआर, सीआरपीएफ और एसओजी के युवा आतंकवादियों की मौजूदगी की सूचना पर तलाशी अभियान चला रहा है।
हिजबुल मुजाहिद्दीन के तीन आतंकवादियों से मुठभेड़ हुई थी
घेरा सख्त होता देख तीन आतंकवादियों ने जवानों पर फायरिंग शुरू कर दी। इसी तरह एक गोली सेना के जवान रोहित कुमार यादव को लगी। घायल हालत में भी वे आतंकवादियों से लोहा लेते रहे और अंतत: शहादत को प्राप्त हो गए। जवानों ने हिजबुल मुजाहिद्दीन के तीन आतंकवादियों को मुठभेड़ में ढेर कर दिया था।
रोहित के पिता भी सेना में हवलदार थे
रोहित के पिता गंगा सिंह यादव भी पूर्व सैनिक हैं। 2004 में वे सेना से हवलदार पद से रिटायर हुए थे। बहू वैष्णवी के साथ पहुंचे पिता गंगा यादव ने कहा कि रोहित का पिता होना मेरे लिए सबसे बड़ा अपमान है। मेरा बेटा सच्चा सिपाही था और उसने देश के लिए शहादत दी है। रोहित की 24 अप्रैल 2016 को शादी हुई थी।
ग्रेनेड फटने से हो गए घायल, फिर भी आतंकी को मार गिराया
सेना मेडल से सम्मानित होने वाले नायक सुरेंद्र यादव की साहसुरी का किस्सा भी कम आकर्षक नहीं है। 19 मार्च 2019 को वे जम्मू कश्मीर के एक गांव में छिपे हुए आतंकवादियों की तलाश में पहुंचे थे। जब एक आतंकी मारा गया तो दूसरी आतंकी घेराबंदी टीम पर ग्रेनेड फेंक कर और अंधाधुंध फायरिंग करते हुए घेराबंदी करने वाली टीम की ओर भागने लगा।
निकटतम मुठभेड़ में मार गिराया
ग्रेनेड फटने से पहले नायक सुरेंद्र यादव ने अपने एक साथी को धकेल कर सुरक्षित बचाया और खुद उसकी चपेट में आकर बुरी तरह से घायल हो गए। बावजूद उनका जज्बा कम नहीं हुआ। वह रेंगकर आतंकी की ओर बढ़े और निकटतम मुठभेड़ में उसे मार गिराया।
सम्मानित होने वाले जवानों ने दिखाया था

  • 28 मार्च 2019 को 23 वीं बटालियन में हलवदार सुनील सिंह जम्मू कश्मीर के जंगल में थे। केवल तीन आतंकवादियों ने हमला किया था। उन्होंने सटीक निशाना लगाते हुए एक आतंकी को ढेर कर दिया। जबकि दो हिस्सा निकले।
  • 27 जुलाई 2019 को 23 वीं बटालियन के मेजर आशुतोष तोमर की टीम ने दो आतंकवादियों से लोहा लिया। एक आतंकी को तोमर ने मार गिराया था।
  • 31 मई 2019 को 42 वें बटालियन राष्ट्रीय रायफल्स के हवलदार ललटनजोवा सर्च ऑपरेशन में थे। दो आतंकी एक घर में छिपे थे। एक को टीम ने मार गिराया। दूसरे पर अंधाधुंध फायरिंग कर दी। हवलदार ललत्लनजोवा ने साहसुरी दिखाते हुए उसे मार गिराया।

जवानों ने हमुरी दिखाने वाले आतंकवादियों को मार गिराया
इसी तरह सम्मानित होने वाले अन्य युवाओं लेफ्टिनेंट कर्नल मनोज कुमार भारद्वाज, मेजर विनायक विजय, मेजर निलव सुरेंद्र, मेजर भानु प्रताप सिंह, मेजर अजय कुमार, कैप्टन पीयूष शर्मा, कैप्टन रंजीत कुमार, कैप्टन सिद्धार्थ दास, कैप्टन रमन तिवारी, हवलदार पवन, हवलदार पवन सिंह। (अब नायब सूबेदार) हरिबीर सिंह, लांस हवलदार (अब हवलदार) सुमित सिंह, नायक समय लाल सिंह, नायक सुरेंद्र यादव, पैराट्रूपर हरि वियाप ने भी 2019 में ही कश्मीर में आतंकवादियों के सबसे करीब मुठभेड़ में मार गिराया था।

सेना के जवान सलामी देते हैं।

सेना के जवान सलामी देते हैं।

जीआरसी में आयोजित सम्मान समारोह में जवानों का उत्साह दिखा।

जीआरसी में आयोजित सम्मान समारोह में जवानों का उत्साह दिखा।

खबरें और भी हैं …





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments