Home ब्लॉग सप्लाई चेन में खेल जरूरी: चीन से व्यापार जारी रखने की जरूरत,...

सप्लाई चेन में खेल जरूरी: चीन से व्यापार जारी रखने की जरूरत, कारोबार की आसानी में आसियान देश भारत से बेहतर: बजाज


  • हिंदी समाचार
  • व्यापार
  • चीन के साथ व्यापार जारी रखने की आवश्यकता है, आसियान देशों को व्यापार करने में आसानी से बेहतर भारत: राजीव बजाज

विज्ञापन से परेशान हैं? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

34 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट
  • बजाज औटो के एमडी ने कहा, बिना माल वहां से लेना चाहिए, जहां सबसे सस्ते मिले
  • चीन जैसे बड़े देश से व्यापारिक संबंध नहीं रखते हैं तो विशिष्ट अनुभव से महरूम रहेंगे

बजाज ऑटो के एमडी राजीव बजाज ने चीन के साथ व्यापार जारी रखने का समर्थन किया है। उनका कहना है कि अनिश्चित माल वहाँ से लिया जाना चाहिए जहां सबसे कम कीमत में मिले। ये बातें बजाज ने तीन दिवसीय एशिया इकोनोमिक डायल 2021 के दूसरे दिन कहीं। इस समूह के आयोजन का आयोजन पुणे इंटरनेशनल सेंटर और विदेश मंत्रालय ने मिलकर किया है। बजाज ने यह भी कहा कि कारोबार में आसानी के लिहाज से आसियान देश भारत से बेहतर हैं।

चीन से व्यापारिक संबंध नहीं रखते तो विशिष्ट अनुभव से महरूम रहेगा

बजाज ने कहा, ‘हम खुद को ग्लोबल कंपनी मानते हैं, इसलिए मेरे हिसाब से कल्चर और बिजनेस के लिहाज से हमें वर्कफोर्स में न सिर्फ महिलाओं की भागीदारी बढ़ाकर ही समग्रता हासिल करनी चाहिए, बल्कि हमें डीलर, डिस्ट्रीब्यूटरी और बिजनेस बेस को भी ग्लोबल बनाना चाहिए। बनाने की जरूरत है। मेरा मानना ​​है कि हमें चीन के साथ व्यापार जारी रखना चाहिए। अगर हम इतने बड़े देश से व्यापारिक संबंध नहीं रखते हैं, तो लंबे समय तक खुद को नुकसान और विशिष्ट अनुभव से महरूम रहकर खुद को खत्म करना होगा। ‘

औटो इंडस्ट्री को सुघड़ सप्लाई चेन के लिए दोतरफा कमिटमेंट जरूरी

बजाज ने कहा कि कस्टमर को फाइनल प्रॉडक्ट मुहैया कराने के लिए औटो इंडस्ट्री को जिस पर सुघड़ सप्लाई चेन चाहिए, उसमें दोतरफा कमिटमेंट जरूरी है। उन्होंने सप्लाई चेन में स्थिरता को दूसरा महत्वपूर्ण पहलू बताया और कहा, ‘मैं यह बात जून-जुलाई में जो हुआ उसको देखता हुआ कह रहा हूँ, जब सरकार ने (कारण जो भी हो) खासतौर पर चीन से इंपोर्ट पर अचानक लगाम लगा दी। मेरे हिसाब से वह अपने पैरों पर कुल्हाड़ी मारने जैसी थी। क्योंकि जो सामान देश में बनता है न ही हो, उसे कैसे कोई घरेलू या विदेशी बाजार में प्रॉडक्ट उपलब्ध कराने के लिए रातोंरात जुटा है। ‘

सामान हमेशा वहाँ से लेना चाहिए जहाँ सबसे सस्ते में मिल रहा हो

चीन या थाईलैंड कहां से से सामान मंगाना सस्ता पड़ता है, इस बाबत बजाज ने कहा, ‘हमें सामान हमेशा वहां से लेना चाहिए जहां सबसे सस्ते में मिल रहा हो।’ उन्होंने कहा कि आने वाले समय में कंपनी एशिया में बड़े पैमाने पर विस्तार करना चाहती है, इसलिए उसने उत्पादन के महत्वपूर्ण घटकों के आधार पर देशों की तुलना की है। उन्होंने कहा कि जमीन, लेबर, बिजली, लॉजिस्टिक्स और लीगल सिस्टम के हिसाब से हमने भारत, वियतनाम, इंडोनेशिया, थाईलैंड और मलेशिया की तुलना की है।

आसियान देशों की तुलना में भारत के कारोबार में बहुत आसान है

बजाज ने कहा, ‘ईमानदारी से कहूँ तो अपने विश्लेषण में हम भारत को लेकर जिसके नतीजे पर पहुँचे उसको लेकर हम बहुत स्पष्ट नहीं हैं।’ सीमित ही सही, हमारा जो भी अनुभव है, वह कहता है कि भारत के आसियान देशों की तुलना में कारोबार करना ज्यादा आसान है। ‘

खबरें और भी हैं …





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments