Home देश की ख़बरें समुद्र की ऊंची लहरों में कलाबाजी: सर्फिंग के लिए विदेशियों को लुभा...

समुद्र की ऊंची लहरों में कलाबाजी: सर्फिंग के लिए विदेशियों को लुभा रहे हमारे बीच, केरल पहुंच रहे डिफ़ॉल्टर्स; जोंटी रोड्स यहाँ जल्द ही एकेडमी खुलेगी


  • हिंदी समाचार
  • राष्ट्रीय
  • सर्फिंग के लिए हमारे विदेशियों के प्रवेश के बीच केरल पहुंचना; जॉन्टी रोड्स जल्द ही अकादमी खोलने के लिए

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

तिरुअनंतपुरम18 मिनट पहलेलेखक: केए शाजी

  • कॉपी लिस्ट

देश की पहचान अब सर्फिंग हब के तौर पर भी होने लगी है। इन दिनों केरल के वर्टिकल और कोवलम के बीच 30-40 विदेशी खिलाड़ी ऊंची समुद्री लहरों में कलाबाजी करते नजर आ रहे हैं। (फोटो- केरल का कोवलम बीच)

  • केरल, कर्नाटक, पुडुचेचेरी के तट सर्फिंग हब के रूप में विकसित हो रहे हैं

देश की पहचान अब सर्फिंग हब के तौर पर भी होने लगी है। इन दिनों केरल के वर्टिकल और कोवलम के बीच 30-40 विदेशी खिलाड़ी ऊंची समुद्री लहरों में कलाबाजी करते नजर आ रहे हैं। पूर्व क्रिकेटर जोंटी रोड्स यहाँ विशेष रूप से सर्फिंग के लिए आते हैं। वे कोवलम पर जल्द ही एकडेमी शुरू करने वाले हैं। कोवलम सर्फ क्लब स्थानीय बच्चों को निशुल्क सर्फिंग शिक्षाता है। क्लब के मालिकर सोनी सर्फर जेली रिगोले कहते हैं, ‘मैं 10 साल पहले कोवलम आया था।

वर्कला और कोवलम के बीच ऊंची लहरों को देखकर मैंने यहां सर्फिंग की सुविधाओं के बारे में पता किया। पर मुझे यहाँ कोई क्लब या सर्फर नहीं मिला। जल्द ही मैंने दोस्तों से सर्फबोर्ड जुटाए और यहां बच्चों को प्रशिक्षण देना शुरू किया। मैं घर-घर जाकर लोगों से बच्चों को भेजने के लिए गुजराती करता था। लेकिन बच्चों के डूबने के डर से लोग जश्न मना कर देते थे। लेकिन मुझे खुशी है कि अब तस्वीर बदल गई है।

पुड्डुचेरी के बीच, कर्नाटक में मंगलौर का बीच मुल्की, केरल का कोवलम व वर्कट बीच भारत के सर्फिंग हब में बदल चुके हैं। ‘ वे कहते हैं कि सर्फिंग को आगे बढ़ाने वाली सरकार भी सहयोग कर रही है। मुझे पूरा भरोसा है कि आने वाले वर्षों में भारत में सर्फिंग के दीवानों में तेजी से वृद्धि होगी। वर्तन बीच में सर्फिंग के प्रशिक्षक बी राहुल कहते हैं, ‘देश में सर्फिंग का आकर्षण बढ़ने की कई वजह हैं।

यहां के पानी में शार्क मछली नहीं हैं। ऑस्ट्रेलियाई अभियानों की तरह न ही बहुत गर्मी है। बाली, श्री, इंडोनेशिया और पुर्तगाल की तुलना में यहां सर्फिंग करना काफी सस्ता भी है। इंग्लैंड के सर्फर जेमी मिशेल कहते हैं, अब तक अचूता थी। यहां सर्फर को पर्याप्त जगह मिलती है।

यह दूसरे भीड़भाड़ वाले विक्रेताओं में संभव नहीं है। 1.5 मीटर ऊंची लहरें उठती हैं, जो सर्फिंग सीखने के लिए बेहद मुफीद है। यहां सितंबर से मई का मौसम सबसे अच्छा होता है। मानसून में कुछ कठिनाईयां आती हैं। केरल के तुरिज्म सचिव रानी जार्ज कहती हैं कि हम सर्फिंग के लिए कन्नूर बीच को भी विकसित कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं …





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments