Home मध्य प्रदेश सरकार की सख्ती: नगर निगम आयुक्तों को निर्देश- ऑन डयूटी वर्दी में...

सरकार की सख्ती: नगर निगम आयुक्तों को निर्देश- ऑन डयूटी वर्दी में अधिकारी-कर्मचारी रहें


विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भोपाल3 घंटे पहले

  • कॉपी लिस्ट

प्रदेश के नगरीय निकायों में लागू ड्रेस कोड का सख्ती से पालन कराने के लिए सरकार ने आयुक्तों और सीएमओ को पत्र भेजा है।

  • पुरुषों के लिए नेवी ब्लू पेंट, स्काई ब्लू शर्ट और महिलाओं के लिए इसी कलर की साड़ी और सलवार-कुर्ता पहनने का नियम
  • प्रदेश के नगरीय निकायों में 2008 में लागू हुआ था ड्रेस कोड, लेकिन पालन नहीं हो रहा है

राज्य सरकार ने प्रदेश के सभी नगर निगमों के आयुक्तों व नगर पालिकाओं के सीएमओ को निर्देश दिए हैं कि सभी अधिकारी और कर्मचारी यूनिफार्म पहन कर डयूटी पर आएं, यह सुनिश्चित किया जाए। इसके बारे में नगरीय विकास एवं आवास विभाग ने सोमवार को पत्र भेजकर निर्देश का सख्ती से पालन करने को कहा है।

मंत्रालय के सूत्रों ने बताया कि सरकार ने प्रदेश के सभी निकायों के अधिकारियों व कर्मचारियों के लिए 2008 में ड्रेस कोड लागू किया था, लेकिन अधिकांश निकायों में इसका पालन नहीं हो रहा है। ऐसे में आम नागरिकों को निगम के अमले की पहचान करने में परेशानी आती है।

नगरीय विकास एवं आवास विभाग द्वारा सभी नगरीय निकायों को प्रेषित पत्र।

नगरीय विकास एवं आवास विभाग द्वारा सभी नगरीय निकायों को प्रेषित पत्र।

विभाग के उप सचिव अमिताभ अवस्थी ने 28 दिसंबर को नगर निगम आयुक्तों के अलावा संभागीय संयुक्त संचालक, परियोजना अधिकारियों और मुख्य नगर पालिका अधिकारियों को पत्र भेजा है। पत्र में कहा गया है कि पुरुष अधिकारियों व कर्मचारियों के लिए नेवी ब्लू पेंट, स्काई ब्लू शर्ट और महिलाओं के लिए इसी कलर की साड़ी और सलवार-कुर्ता पहनने का ड्रेस कोड लागू है, लेकिन इसका पालन नहीं किया जा रहा है। इससे पहले भी पत्र लिखकर निगम स्टाफ के यूनिफॉर्म में रहने के निर्देश दिए गए, जिसका पालन नहीं किया जा रहा है। अब इस नियम को सख्ती से लागू किया जाएगा।

मंत्री ने भेजी थी नोटशीट

सूत्रों ने बताया, नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेंद्र सिंह ने 24 दिसंबर को विभाग में एक नोटशीट भेजी थी, जिसमें उन्होंने कहा कि प्रदेश के निकायों में अधिकांश अधिकारी और कर्मचारी वर्दीफार्म में दिखाई नहीं देते हैं, जबकि सरकार ने 12 साल पहले निकायों का गठन किया था: ड्रेस कोड लागू किया गया था। उन्होंने सख्ती से इस नियम का पालन कराने को कहा था। इसके बाद विभाग ने नगरीय निकायों को पत्र भेजा है।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments