Home उत्तर प्रदेश सरगनाओं के नाम पर डाक टिकट: कानपुर में डाक विभाग के डिप्टी...

सरगनाओं के नाम पर डाक टिकट: कानपुर में डाक विभाग के डिप्टी पोस्ट द्वारा निलंबित, टिकट के लिए भरे गए फॉर्म की जांच नहीं की गई।


विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कानपुर27 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

यह कानपुर डाक विभाग द्वारा जारी टिकट है। इसमें दिख रहे छोटे राजन एक समय मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड रहे डॉन इब्राहिम की गैंग में शामिल थे। राजन अभी दिल्ली की तिहाड़ जेल में है।

  • बीते सामेवार को कानपुर डाक विभाग ने छोटा राजन और मुन्ना बजरंगी की फोटो वाले डाक टिकट जारी किए थे
  • पोस्ट मास्टर जनरल वीके वर्मा की प्राथमिक जांच में डाक सहायक को पूर्व में किया जा चुका है निलंबित कर दिया गया है

उत्तरप्रदेश के कानपुर में डाक विभाग के डिप्टी पोस्टमास्टर शिवकुमार यादव को निलंबित कर दिया गया है। यह कार्रवाई आंतरिक क्रिमिनल छोटे राजन और बागपत जेल में मारे गए शॉर्प शूटर मुन्ना बजरंगी की फोटो वाले डाक टिकट जारी करने के मामले में हुई है। इससे पहले प्राथमिक जांच में दोषी पाए जाने पर बीते सोमवार को डाक सहायक रजनीश को निलंबित किया गया था। अभी भी कई कर्मियों पर कार्रवाई की तलवार लटक रही है।

प्रधान डाकघर के प्रवर अधीक्षक डाक हिमांशु मिश्रा ने बताया कि कार्य में लापरवाही बरतने का दोषी मानते हुए डिप्टी पोस्ट मास्टर शिव कुमार यादव को निलंबित किया गया है। अभी भी जांच की जा रही है। इस मामले में अगर अन्य कोई भी दोषी पाया जाता है तो उसके खिलाफ भी प्रकरण से कड़ी कार्रवाई होगी।

सरगनाओं के नाम पर डाक टिकट: कानपुर डाक विभाग की लापरवाही, छोटा राजन और माफिया मुन्ना बजरंगी के नाम पर टिकट बुक कराया गया

ये आरोप साबित हुए

बता दें कि इस प्रकरण में विभागीय जांच हुई थी। पोस्ट मास्टर जनरल वीके वर्मा को जांच सौंपी गई थी। जांच में साबित हुआ कि डाक सहायक रजनीश की गलती की वजह से आंतरिक क्रिमिनल छोटा राजन और माफिया मुन्ना बजरंगी के डाक टिकट जारी हो गए। इससे विभाग की छवि धूमिल हुई है। वहीं, डिप्टी पोस्ट मास्टर शिव कुमार यादव डाक टिकट बनाने के फॉर्म की सही से जांच नहीं की, जबकि ये उनकी जिम्मेदारी थी।

पूरा मामला क्या है?

दरअसल, कानपुर डाक विभाग ने माई स्टांप योजना के तहत इंटरनेशनल क्रिमिनल छोटे राजन और बागपत जेल में मारे गए शॉर्प शूटर मुन्ना बजरंगी की फोटो वाले डाक टिकट बीते सोमवार को जारी कर दिए थे। इन टिकटों के माध्यम से देश में कहीं भी चिट्ठी भेजी जा सकती है। लापरवाही की हद ये है कि टिकट जारी करने से पहले न फोटो की पड़ताल की गई और न ही कोई सर्टिफिकेट मांगा गया। मामला तूल पकड़ने के बाद जांच शुरू हुई थी।

मुन्ना बजरंगी की हत्या हो गई, राजन जेल में

माफिया मुन्ना बजरंगी की 9 जुलाई 2018 को बागपत जेल में हत्या कर दी गई थी। उधर, छोटा राजन को 2015 में बाली से गिरफ्तार करके भारत लाया गया था। अभी वह तिहाड़ जेल में है।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments