Home मध्य प्रदेश सेहत का सोमवार: कई लाभ पहुंचता है द्विहस्त हलासन

सेहत का सोमवार: कई लाभ पहुंचता है द्विहस्त हलासन


विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रतलाम4 दिन पहले

  • कॉपी लिस्ट

शाब्दिक अर्थ शरीर का आकार हल के समान हो जाता है। जैसे हल जमीन को खोद का उपजाऊ करता है। उसी प्रकार यह आसन भी शरीर को अनेकों लाभ का अधिकार देता है। यह सर्वागासन का ही एक रूप होता है। विधि-जमीन पर कंबल बिछाकर पीठ के बल शवांस को सामान्य रखते हुए लेट जाओ। सिर गर्दन और मेरुदंड को सहज और सीधा रखें। दोनों पैरों को पास रखने के साथ शवांस को शरीर के अंदर की तरफ भरते हुए दोनों पैरों को धीरे धीरे ऊपर उठाते हुए दोनों हाथों का नितंबों को सहारा देकर सिर के ऊपर से पीछे की तरफ ले जाते हुए पैरों के पंजे को या पैरों के अंगूठों को दबाएं। जमीन से स्पर्श करें। दोनों हाथों को दो या तीन स्थिति में रख सकते हैं। पहली स्थिति में हाथ जमीन पर सीधा पीछे की ओर रहने दें। दूसरी स्थिति में दोनों हाथों से पैरों के पंजे पकड़ कर रखें और तीसरी स्थिति में दोनों हाथों को कंधों के समानांतर रख सकते हैं। आसन की मुद्रा में जालंदर बांड अपने आप लग जाता है। आसन की मुद्रा में 10 से 15 सेकंड रहे व शवांस पर शवांस सामान चलने दें व पुनः मूल स्थिति में आने के लिए शवांस रोककर दोनों पैरों को सीधे रख धीरे धीरे शवांसन की स्थिति में ले आते हैं। यह क्रिया 5 से 7 बार तक कर सकती है। आसन का अभ्यास होने पर आसन की मुद्रा में पाँच मिनट तक भी रुक सकते हैं। लाभ-रक्त को शुद्धि देते हुए मस्तिष्क को पूर्ण रक्त प्रवाह कर हार्ट और मेरुदंड को शक्तिशाली बनाता है। चेहरे पर क्रांति लाते हुए आँखें की ज्योति उठते हुए यौन शक्ति बढ़ाता है। जठराग्नि को उद्दीत कर भूख बढ़ाता है। विशेष-शरीर फुर्तीला के साथ रोगप्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। डायबिटीज में लाभकारी है। निर्देश-हाई ब्लड प्रेशर, क्लीप डिस्क, मेरुदंड में चोट वाले रोगी नहीं करें। आशा दुबे, जिला योग प्रभारी





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments