Home देश की ख़बरें हरियाणा के युवाओं के लिए बड़ी खुशखबरी: प्राइवेट सेक्टर में गोलियां 75...

हरियाणा के युवाओं के लिए बड़ी खुशखबरी: प्राइवेट सेक्टर में गोलियां 75 प्रतिशत जमा रहोगी रिजर्व, राज्यपाल ने बिल को दी मंजूरी, 10 साल तक लागू रहेगा कानून


विज्ञापन से परेशान हैं? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

चंडीगढ़5 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने बिल को मंजूरी मिलने पर खुशी जताई और कहा कि इससे प्रदेश विकास की दिशा में आगे बढ़ेगा।

  • हर कंपनी, सोसाइटी, ट्रस्ट में युवाओं को कौशल में 3 चौथाई आरक्षण का लाभ मिलेगा
  • विधेयक पिछले वर्ष नवंबर महीने में विधानसभा में पारित किया गया था

हरियाणा के युवाओं के लिए बड़ी खुशखबरी है। प्रदेश में अब प्राथमिक क्षेत्र में नौकरियों में युवाओं को 75 प्रतिशत आरक्षण मिलेगा। राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य ने मंगलवार को बिल को मंजूरी दे दी। अब यह कानून बन गया है और आगामी भर्तियों में युवाओं को इसका लाभ मिलेगा। इसकी जानकारी प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने दी।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने बताया कि विधेयक पिछले साल नवंबर महीने में विधानसभा में पारित किया गया था। उसके बाद इसे गवर्नर के पास मंजूरी के लिए भेजा गया था। पूरी तरह से संतुष्ट होने के बाद गवर्नर ने इसे मंजूरी दे दी। अब प्रदेश में हर कंपनी, सोसाइटी, ट्रस्ट में युवाओं को गोलियों में 3 चौथाई आरक्षण का पूरा लाभ मिलेगा।

ये कानून के नियम हैं

कानून अगले 10 साल तक लागू रहेगा, जो निजी कंपनियों, फर्म, ट्रस्ट आदि में लागू होगा। विशेष रूप से उनमें से 10 से अधिक कर्मचारी हैं। 50 हजार मासिक सैलरी वाली नौकरियों पर यह कानून लागू होगा। कानून नहीं मानने वाली कंपनियों पर तुमसे लागू होने का प्रावधान है। हरियाणा के डोमिसाइल धारक लोग इसका लाभ उठा सकते हैं। सभी कंपनियों को 3 महीने में सरकार के पोर्टल पर रजिस्टर करके बताना होगा कि उनके यहां 50 हजार तक की तनख्वाह वाले कितने पद पर हैं और ये पर हरियाणा से कितने लोग काम कर रहे हैं।

कानून के अनुसार, यह जानकारी सरकार को पोर्टल पर अपलोड करने तक कंपनियां नए लोगों को नौकरी पर नहीं रख सकती। कंपनी मालिक चाहे तो एक जिले से 10 प्रतिशत से ज्यादा कर्मचारी रखने पर रोक लगा सकते हैं। किसी पद के लिए योग्य कर्मचारी न मिलने पर आरक्षण कानून में छूट दी जा सकती है। इस बारे में निर्णय जिला उपायुक्त या उच्च स्तर के अधिकारी करेंगे। हर कंपनी को हर तीन महीने में इस कानून को लागू करने की स्टेटस रिपोर्ट सरकार को देनी होगी।

हरियाणा की औद्योगिक स्थिति

राज्य में कई बड़े और लघु उद्योग इकाइयां कार्यरत हैं। कार, ​​ट्रैक्टर, मोटरसाइकिल, साइकिल, रेफ्रिजरेटर, वैज्ञानिक उपकरण आदि कई प्रकार के उत्पादकों का सबसे बड़ा उत्पादक राज्य हरियाणा है। विश्व बाजार में बासमती चावल का सबसे बड़ा विवरण हरियाणा है। पंचरंगा अचार के अतिरिक्त पानीपत में हस्तकारघे से बने वस्तुओं और कालीन विश्व भर में प्रसिद्ध है और इनका एक्स बड़े स्तर पर किया जाता है। हरियाणा की सबसे बड़ी औद्योगिक गुरुग्राम है। जहां कई प्राथमिक कंपनियों के हेड ऑफिस हैं।

खबरें और भी हैं …





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments