Home मध्य प्रदेश हाईकोर्ट ने जारी किया नोटिस: डीजल-गैस में मिला रहा एथेनॉल, टैक्स वसूल...

हाईकोर्ट ने जारी किया नोटिस: डीजल-गैस में मिला रहा एथेनॉल, टैक्स वसूल रहा ज्यादा, पेट्रोलियम मंत्रालय और ऑयल कंपनियों से छह हफ्ते में हाईकोर्ट ने मांगा जवाब


विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जबलपुर6 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

हाईकोर्ट में हुई डीजल-गैस की कीमतों को लेकर जनहित याचिका पर सुनवाई

  • इथेनॉल मिश्रित पेट्रोल-डीजल पर पांच प्रतिशत टैक्स लेने का प्रावधान, सरकार वसूल 51 प्रतिशत कर रही है
  • चीफ जस्टिस मोहम्मद रफीक व जस्टिस विजय कुमार शुक्ला की डबल बेंच में हुई मामले की सुनवाई

हाईकोर्ट ने तेल कंपनियों और पेट्रोलियम मंत्रालय को नोटिस जारी कर पूछा है कि एथनॉल मिले डीजल-पेट्रोल पर टैक्स लेने का क्या प्रावधान है। क्या एथनॉल मिले डीजल-पेट्रोल पर पांच प्रतिशत से अधिक टैक्स नहीं लिया जा सकता है। हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस मोहम्मद रफीक और जस्टिस विजय कुमार शुक्ला की डबल बेंच ने एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए उक्त नोटिस जारी किया है।

दरअसल डीजल-गैस की बढ़ती कीमतों को जबलपुर हाईकोर्ट में चुनौती दी गई है। एक जनहित याचिका के माध्यम से नागरिक उपभोक्तावादक मंच जबलपुर के संयोजक मनीष शर्मा ने पक्ष रखा है कि इथेनॉल मिश्रित डीजल-पेट्रोल पर सरकार ने पांच प्रतिशत ही टैक्स लेने का नियम बनाया था। पर इस पर 51 प्रतिशत टैक्स वसूला जा रहा है। इसी मामले में आज शेफ जस्टिस व विजय कुमार शुक्ला की डबल बेंच में सुनवाई हुई।
पेट्रोलियम मंत्रालय व ऑयल कंपनियों को बनाया गया है
याचिकाकर्ता मनीष शर्मा की ओर से अधिवक्ता सुशांत श्रीवास्तव ने पक्ष रखा। इस याचिका में केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्रालय सहित सभी ऑयल कंपनियों को पक्षकार बनाया गया है। अधिवक्ता सुशांत श्रीवास्तव ने तर्क दिया कि पांच प्रतिशत टैक्स की बजाय 18 प्रतिशत केंद्र सरकार और 33 प्रतिशत टैक्स राज्य सरकार एकत्रित कर रही है। ऑयल कंपनियों अभी तक सात से 10 प्रतिशत इथेनॉल मिला रही हैं। यह 2025 तक 20 प्रतिशत और 2030 तक 30 प्रतिशत तक ले जाने का टार्गेट रखा गया है।
पांच से छह रुपए सस्ता होगा पेट्रोल-डीजल
नियमानुसार इथेनॉल मिश्रित पेट्रोल-डीजल पर महज पांच प्रतिशत टैक्स लिया गया, तो आम लोगों को चार से छह रुपये सस्ते में डीजल-पेट्रो मिलेगा। सरकार ने 10 वर्षों में इस तरह से खरबों रुपए वसूल किया है। सरकारी तेल कंपनियों इंडियन ऑयल, भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड, हिन्दुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड ने आज चौथे दिन बुधवार को पेट्रोल व डीजल की कीमतों में कोई बदलाव नहीं किया है।
पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कमी हो सकती है
पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के बीच अब वित्त मंत्रालय एक्साइज ड्यूटी कम करने के विकल्प पर विचार कर रहा है। इससे आम लोगों को कीमतों से फौरी राहत मिल सकती है। पिछले एक साल में सरकार ने पेट्रोल-डीजल के टैक्स में दो बार बढ़ोतरी की है। जब अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल का भाव न्यूनतम रिकॉर्ड स्तर पर था, तब भी आम लाएगों को कीमत में राहत नहीं मिली थी।

खबरें और भी हैं …





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments