Home मध्य प्रदेश होशंग का नाम बदलने की जायस्टिकाना के 7 दिन पूरे: नर्मदापुरम का...

होशंग का नाम बदलने की जायस्टिकाना के 7 दिन पूरे: नर्मदापुरम का प्रस्ताव राजस्व विभाग पहुंचा, केंद्र सरकार से मांगे जाने


विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

हेश्रंगएक घंटा पहले

  • कॉपी लिस्ट

सेंडेकटिक फोटो

  • नाम बारी इसमें कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन पहले नर्मदा का प्रदूषण हटाए: कांग्रेस विधायक

हाेश्रंग का नाम नर्मदापुरम करने की प्रक्रिया आगे बढ़ रही है। नर्मदा जयंती पर मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान की घोषणा के बाद 7 दिन में शहर और जिले के नाम बदलने का प्रस्ताव प्रदेश के राजस्व विभाग को पहुंच गया है। सीएमओ माधुरी शर्मा ने मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुसार शहर का नाम बदलने का प्रस्ताव पास कर प्रशासन काे भेज दिया है।

वहीं, जिले का नाम बदलने का प्रस्ताव भेजने की पुष्टि एडीएम जीपी माली ने की है। अब राजस्व विभाग की अनुमति के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय को फाइल भेजनी होगी। वहाँ से अनुमति मिलने पर ही नाम परिवर्तन की अधिसूचना सरकार जारी कर सकती है।

यह प्रक्रिया कितने दिन में पूरी हाेगी, यह मुख्यमंत्री और राज्य शासन की इच्छाशक्ति और प्रयासों पर ही निर्भर है। जिले का नाम बदलने राज्य के अधिकार में है, लेकिन केंद्र की अनुमति के बिना रेलवे स्टेशन, पोस्ट ऑफिस आदि का नाम नहीं बदला जा सकता है। केंद्रीय गृह मंत्रालय का सर्कुलर भी यही कहता है कि उनकी अनुमति के बिना नाम परिवर्तन नहीं किया जा सकता है।

उत्तर प्रदेश में इलाहाबाद 5 दिन में ही बन गया था प्रयागराज

शहर या जिले का नाम कितने दिन में बदल जाता है, इसकी कोई निर्धारित सीमा नहीं है। यह प्रदेश सरकार के प्रयासों पर ही निर्भर है। उत्तरप्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अक्टूबर 2018 में इलाहाबाद का नाम 5 दिन में ही प्रयागराज करवा लिया था। राज्य भंडारण में प्रस्ताव पास कर राज्यपाल से नाम परिवर्तन की अधिसूचना जारी करवाई गई। केंद्र सरकार ने 2 महीने बाद दिसंबर 2018 में अनुमति दी थी

पहले से चल रही थी प्रक्रिया, प्रस्ताव नए सिरे से बने

राजस्व विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि जिला प्रशासन को प्रस्ताव भेजने के लिए पत्र पहले भेजे जा चुके थे। घोषणा के बाद तत्काल हाेश्रंग जिला प्रशासन से प्रस्ताव बुलाया गया। प्रस्ताव हमें मिल चुका है, अब यह गृह मंत्रालय भेजेगा।

वैकल्पिक है। काउंटर की स्वीकृति के पहले भी भेजा जा सकता है। 1996 से होशंग का नाम नर्मदापुर करने की मांग थी। इसके लिए पूर्व में प्रस्ताव भेजे गए जा चुके हैं लेकिन राज्य व केंद्र में अलग-अलग पार्टी की सरकार होने से मंजूर नहीं हुए। इस बार नया प्रस्ताव भेजा गया है। पहले यह नर्मदापुर नाम से था।

राज्य के अधिकार पर गृह मंत्रालय की अनुमति आवश्यक है

  • जिले का नाम बदलना राज्य सरकार का अधिकार गृह मंत्रालय की अनुमति आवश्यक है। अनुमति ही सबसे महत्वपूर्ण है।
  • अनुमति मिलने पर सरकार अधिसूचना जारी करती है।
  • अधिसूचना के बाद राज्य सरकार के विभागों में नाम परिवर्तन तत्काल हो जाता है, केंद्र के रेलवे स्टेशन, डाकघर आदि में समय लगता है।
  • कोर्टीन दस्तावेजों में परिवर्तन वरिष्ठ वरिष्ठों की अनुमति से ही होता है, कई शहर हैं, जिनके नाम बदल गए लेकिन कोर्ट पुराने नाम से ही चल रहे हैं।

कांग्रेस विधायक लक्ष्मण सिंह विधानसभा में बोले- पहले नर्मदा को साफ करो, जल आचमन योग्य भी नहीं

होश्रंग का नाम नर्मदापुरम करने की मुख्यमंत्री की घोषणा के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह व उनके भाई लक्ष्मण सिंह इस मामले में कूदे हैं। दिग्विजय सिंह ने नाम बदलने के बजाय रोजगार देने का बयान चार दिन पहले दिया था। बुधवार को मुद्दा विधानसभा में भी उठा। राज्यपाल के अभिभाषण में होशगंगा का नाम नर्मदापुरम किए जाने की सूचना दी गई।

इस पर कांग्रेस से चचौड़ा विधायक लक्ष्मण सिंह ने विधानसभा में कहा- सरकार होशंगा का नाम बदल दें इसमें कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन पहले नर्मदा का प्रदूषण हटाए। नर्मदाजल आचमन के योग्य भी नहीं है। इधर, कांग्रेस जिलाध्यक्ष सत्येंद्र फायाजदार ने बताया कि नर्मदा हमारी जीवनदायनी है। हर हाल में पूजनीय है। हर रूप में भर्ती कराया गया है। मां नर्मदा जीवन दे रही है। विधानसभा में नर्मदा काे बारे में किसने क्या कहा पर यह कुछ नहीं कहेगा।

खबरें और भी हैं …





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments