Home उत्तर प्रदेश 2021 का स्वागत: दशाश्वमेध घाट पर साल के अंतिम दिन मां गंगा...

2021 का स्वागत: दशाश्वमेध घाट पर साल के अंतिम दिन मां गंगा की आरती में महामारी कोरोना से मुक्ति की जय हो


विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

वाराणसीएक घंटा पहले

  • कॉपी लिस्ट

गंगा आरती में लोगो के अंदर नए साल का उत्साह दिखा।

दशाश्वमेध घाट की होने वाली माता गंगा की महाआरती गुरुवार शाम को और विशेष हो गई। आयोजक समिति गंगा सेवा निधि ने दीप जलाकर नए साल का स्वागत किया। ब्राह्मणों द्वारा मां गंगा का वैदिक मंत्रों के साथ विशेष पूजन किया गया। गंगा आरती में कोरोना महामारी से पूरी दुनिया और देश को मुक्ति दिलाने की कामना की गई। नया साल सभी का खुशियों भरा हो यही प्रार्थना की गई है।

लॉकडाउन में एक ब्राह्मण द्वारा सांकेतिक आरती की जाती थी

गंगा सेवा निधि के अध्यक्ष सुशांत मिश्रा ने बताया कि वर्ष 2020 में पूरी दुनियाँ के लिए कष्टकारी रहा है। पूरा विश्व महामारी कोरोना से जूझ रहा है। मां गंगा की आरती में साल के आरा दिन सभी के लिए मंगल कामना किया गया है। दुनियां भर से पर्यटक, श्रद्धालु आरती देखने आती है। कोरोना के चलती इस साल काफी कमी भी आ गई।

1990 में गंगा सेवा निधि के संस्थापक सतेंद्र मिश्रा ने एक ब्राह्मण से आरती की शुरुआत की थी। अब नित्य दिन 7 ब्राह्मण आरती को संपन्न करना है। 18 मार्च को को विभाजित – 19 के कारण आरती को सांकेतिक कर दिया गया था। 21 नवंबर से सभी नियमों का पालन करते हुए श्रद्धालुओं को भी आरती में शामिल होने की अनुमति प्रदान की गई।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments