Home मध्य प्रदेश 3 साल से बबलू कर रहा था परेशान: एक दिन पहले हुआ...

3 साल से बबलू कर रहा था परेशान: एक दिन पहले हुआ था एक्सीडेंट, घायल था तहसीलदार का बाबू फिर भी 20 हजार की रिश्वत लेने पहुंच गया, लोकायुक्त ने पकड़ा


विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

गोलमाल करनेवाला13 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

रिश्वत के साथ पकड़े गए बाबू श्रीकृष्ण बौहरे, हाथ में रिश्वत के 20 हजार रुपए पकड़े गए, एक दिन पहले एक्सीडेंट में हुआ है घायल

  • सिटी सेंटर के जीवन ज्योति नेत्रालय में लोकायुक्त ने बाबू को किया ट्रेप
  • भिंड के मौ तहसील में पदस्थ है बाबू

दादा की जमीन पोतों के नाम करने में 3 साल से अडंगा लगाए बैठे तहसीलदार के बाबू को लोकायुक्त ने 20 हजार की रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ा है। बाबू ने किसान को बुधवार सुबह सिटी सेंटर के जीवन ज्योति नेत्रालय में बुलाया था। बाबू के रुपए हाथ में लेते ही लोकायुक्त अफसरों ने उसे ट्रेप कर लिया। मामला भिंड के मौ तहसील के इटायली गांव में 6 बीघा जमीन के नामकरण का है। एक दिन पहले एक्सीडेंट में घायल हुआ था बब्बू, फिर भी रिश्वत लेने आ गया। पकड़े जाने के बाद बाबू बोला है कि यह रुपए तो उसने अपनी पहचान वाले से उधार लिए हैं। लोकायुक्त ने तत्काल नोट पर निगरानी रखी।

फरियादी जगदीश सिंह राणा, तीन साल से बाबू उन्हें जमीन का नाम बदलने नहीं कर रही परेशान कर रही थी

फरियादी जगदीश सिंह राणा, तीन साल से बाबू उन्हें जमीन का नाम बदलने नहीं कर रही परेशान कर रही थी

ग्वालियर के सिरोल स्थित हुरावली सुरक्षा विहार कॉलोनी निवासी जगदीश सिंह राणा किसान हैं। मूल रूप से वह भिंड के मौ तहसील स्थित इटायली गांव के हैं। वहां उनकी 6 बीघा जमीन है। जिसे जगदीश के पिता अपने पोतों के नाम कर रहे थे। जगदीश मौ तहसील में 3 साल से इस जमीन के नामकरण के लिए चक्कर लगा रहे थे। इस दौरान दो तहसीलदार भी बदल गए, लेकिन मौ तहसील में पदस्थ बाबू श्रीकृष्ण बौरी निवासी डीडी नगर उन्हें परेशान कर रहे थे। वह जमीन का नामकरण करने के लिए 30 हजार रुपए की रिश्वत मांग रहा था। परेशान हो चुके किसान ने उसे सबक सिखाने की ठान ली। वह लोकायुक्त एसपी से मिले और शिकायत की। मामले की जांच टीआई लोकायुक्त कविन्द्र सिंह चौहान को दी गई। उन्होंने कहा कि किसान बातचीत करने के लिए कहेगा। इसमें फरियादी ने पूरी बात रिकॉर्ड की थी। 30 हजार रुपए से मोल भाव करते हुए 20 हजार में बात तय हो गई।

मंगलवार को होना था सौदा, एक्सीडेंट ने बचा लिया

बातचीत के बाद तय हुआ कि बाबू श्रीकृष्ण बौहरे को उसके घर डीडी नगर में जाकर जगदीश पैसे देगा, लेकिन मंगलवार को बबलू की गाड़ी चिपिप हो गई और वह घायल हो गया। उसके हाथ पैर व चेहरे पर चोट लग गई। जिस कारण मंगलवार को उसे ट्रेप नहीं कर सके। बुधवार सुबह जब जगदीश ने उसे फोन लगाया तो उसने कहा घर आ जाओ फिर बोला कि मैं सिटी सेंटर जीवन ज्योतिवाला आ रहा हूं मैं आ जाओ। अस्पताल पहुंचकर जैसे ही किसान ने बाबू श्रीकृष्ण बौहरे को 2-2 हजार के 10 नोट थमाए तो उसने गिनने लगा। इसी समय लोकायुक्त टीआई कविन्द्र सिंह ने उसका हाथ पकड़ लिया। लोकायुक्त का नाम सुनते ही बाबू के चेहरे पर वापस आने लगा। वह कहने लगा भाई साहब यह नोट उसने अपनी पहचान वाले जगदीश राणा से उधार लिए हैं। इसके बाद कैमिकल लगे हुए नोट छूने वाले बाबू के हाथ की तरह ही पानी में डलवाए गए पानी गुलाबी हो गए। लोकायुक्त ने नोट, बाबू का मोबाइल निगरानी में तत्काल भ्रष्टाचार का मामला दर्ज कर लिया है। बाबू को सस्पेंड करने के लिए उसके विभाग को लिखा जा रहा है।

परेशान हो गया था

फरियादी जगदीश राणा ने दैनिक भास्कर को बताया कि उनके पिता की 6 बीघा जमीन जिसकी कीमत लगभग 20 लाख रुपये है। तीन साल से बच्चों के नाम जमीन के नामकरण के लिए वह तहसील में चक्कर लगा रहे थे। बाबू फाइल में कोई न कोई कमी निकालकर कभी चुनाव तो कभी समय न होने की बात कहकर टाल रहा था। परेशान हो गए थे। केवल पता लगा कि ऐसे भ्रष्ट लोगों को लोकायुक्त अच्छा सबक सिखाती है। इसके बाद मन में ठान लिया गया कि यह बाबू को सबक सिखाने वाला ही रहेगा। लोकायुक्त दफ्तर पहुंचे और काम आसान हो गया।

खबरें और भी हैं …





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments