Home उत्तर प्रदेश 50 लाख से अधिक की योजनाओं की समीक्षा की जाएगी

50 लाख से अधिक की योजनाओं की समीक्षा की जाएगी


पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

* केवल ₹ 299 सीमित अवधि की पेशकश के लिए वार्षिक सदस्यता। जल्दी से!

ख़बर सुनकर

बांदा। पचास लाख रुपये से अधिक लागत वाली परियोजनाओं की धीमी प्रगति पर डीएम आनंद कुमार सिंह ने नाराजगी जताते हुए नियमित दृष्टिकोण और समीक्षा के साथ दिए हैं। इसके लिए अधिकारी और तकनीकी अधिकारी नामित किए गए हैं। जनपद में 13 कार्यदायी संस्थाओं द्वारा 69 परियोजनाओं का निर्माण कराया जा रहा है। इनकी कुल लागत 703.79 करोड़ रुपये है।
परियोजनाओं की समीक्षा के लिए नामित अधिकारियों में एडीएम और पीडब्लडी के अधिशासी अभियंता को मंडलायुक्त कार्यालय में अनाक्सीय भवन, पॉलिटेक्निक में महिला छात्रावास, विशिष्ट मंडी समिति में बटुआ, नवीन मानसिक मंदित आश्रय गृह, ममता राजकीय मानसिक मंदित विद्यालय (बालक) जिम्मेदारी सौंपी गई है। । कृषि विश्वविद्यालय, सर्किट हाउस और जिला अस्पताल में जलाशय, 4343 नग पेयजल हाउस कनेक्शन, केन नदी इंटेकवेल में एसएम निर्माण, राइजिंग लाइन का दायित्व नगर मजिस्ट्रेट को दिया गया है।
इसके अलावा पर्वीय वनाधिकारी को भी कई परियोजनाएं सौंपी गई हैं। डीएम ने कहा कि यह नामित अधिकारी परियोजनाओं की गुणवत्ता की जांच नियमित रूप से करते हैं। नामित अधिकारियों के साथ एक-एक तकनीकी अधिकारी भी मौजूद रहेंगे।
—————–
जन जागरुकता कैंप आज ​​से
बांदा। महिला कल्याण विभाग द्वारा संचालित योजनाओं के प्रचार-प्रसार के लिए मार्च महीने में जागरूकुकता कैंप लगेंगे। जावेद मजिस्ट्रेट / जिला प्रोबेशन अधिकारी सुधीर कुमार ने बताया कि सदर तहसील में पहली मार्च, कलक्ट्रेट में तीन, विकास भवन में पांच, पालिका में नौ, जिला महिला चिकित्सालय में 10, बीएसए कार्यालय में 12, महिला डिग्री कालाज में 15, जेएन कालेज में। 16, आर्यकन्या इंटर कालेज में 18, जीजीआईसी में 20 को, सरस्वती बालिका विद्या मंदिर केंप्ट में 22 को, भगवती प्रसाद ओमर इंटर कालेज में 23 व राजादेवी महाविद्यालय में 24 मार्च को जनकल्याण शिविर लगेंगे। (वार्ता)

बांदा। पचास लाख रुपये से अधिक लागत वाली परियोजनाओं की धीमी प्रगति पर डीएम आनंद कुमार सिंह ने नाराजगी जताते हुए नियमित दृष्टिकोण और समीक्षा के साथ दिए हैं। इसके लिए अधिकारी और तकनीकी अधिकारी नामित किए गए हैं। जनपद में 13 कार्यदायी संस्थाओं द्वारा 69 परियोजनाओं का निर्माण कराया जा रहा है। इनकी कुल लागत 703.79 करोड़ रुपये है।

परियोजनाओं की समीक्षा के लिए नामित अधिकारियों में एडीएम और पीडब्लडी के अधिशासी अभियंता को मंडलायुक्त कार्यालय में अनाक्सीय भवन, पॉलिटेक्निक में महिला छात्रावास, विशिष्ट मंडी समिति में बटुआ, नवीन मानसिक मंदित आश्रय गृह, ममता राजकीय मानसिक मंदित विद्यालय (बालक) जिम्मेदारी सौंपी गई है। । कृषि विश्वविद्यालय, सर्किट हाउस और जिला अस्पताल में जलाशय, 4343 नग पेयजल हाउस कनेक्शन, केन नदी इंटेकवेल में एसएम निर्माण, राइजिंग लाइन का दायित्व नगर मजिस्ट्रेट को दिया गया है।

इसके अलावा पर्वीय वनाधिकारी को भी कई परियोजनाएं सौंपी गई हैं। डीएम ने कहा कि यह नामित अधिकारी परियोजनाओं की गुणवत्ता की जांच नियमित रूप से करते हैं। नामित अधिकारियों के साथ एक-एक तकनीकी अधिकारी भी मौजूद रहेंगे।

—————–

जन जागरुकता कैंप आज ​​से

बांदा। महिला कल्याण विभाग द्वारा संचालित योजनाओं के प्रचार-प्रसार के लिए मार्च महीने में जागरूकुकता कैंप लगेंगे। जावेद मजिस्ट्रेट / जिला प्रोबेशन अधिकारी सुधीर कुमार ने बताया कि सदर तहसील में पहली मार्च, कलक्ट्रेट में तीन, विकास भवन में पांच, पालिका में नौ, जिला महिला चिकित्सालय में 10, बीएसए कार्यालय में 12, महिला डिग्री कालेज में 15, जेएन कालेज में। 16, आर्यकन्या इंटर कालेज में 18, जीजीआईसी में 20 को, सरस्वती बालिका विद्या मंदिर केंप्ट में 22 को, भगवती प्रसाद ओमर इंटर कालेज में 23 व राजादेवी महाविद्यालय में 24 मार्च को जनकल्याण शिविर लगेंगे। (वार्ता)





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments