Home मध्य प्रदेश 68 प्रतिशत ने ही आगे बढ़ा दिया दूसरा डोज: चार दिन के...

68 प्रतिशत ने ही आगे बढ़ा दिया दूसरा डोज: चार दिन के वैक्सीनेशन में 9637 स्वास्थ्य कर्मियों को मैसेज देकर वैक्सीनेशन के लिए बुलाया, 6553 लोग ही पहुंचे


विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जबलपुर19 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

वैक्सीनेशन के दौरान द्वितीय डोज लगवाने स्वास्थ्य कर्मी।

  • छह मार्च तक मौका मिलेगा, एक मार्च से बुजुर्गों को लगना हैच
  • दूसरा डोज लगवाने के 14 दिन बाद ही शरीर में तैयार हो जाएगा

जिले में कोरोना से बचाव के लिए स्वास्थ्य कर्मियों को टीके की दूसरी डोज लग रही है। दूसरी डोज लगने के 14 दिन बाद ही शरीर में कोरोना से बचाव का पानी तैयार हो जाएगा। इसके बावजूद वैक्सीनेशन सेंटर में अब तक 68 प्रतिशत ही स्वास्थ्य कर्मी दूसरा डोज लगवाने पहुंचे। 6 मार्च तक दूसरा डोज लगवाने का मौका मिलेगा। इसके अलावा पहले और दूसरे चरण में वैक्सीनेशन से छूट गई लाइन लाइन वकर्स को भी टीके का पहला डोज लगाया जा रहा है।

जानकारी के अनुसार जिले में 22 फरवरी से टीके का दूसरा डोज लगना शुरू हुआ था। अब तक चार दिन का वैक्सीनेशन हो चुका है। पहले डोज लगवा चुके स्वास्थ्य कर्मियों को दूसरे डोज के लिए बुलाया जा रहा है। अब तक 9637 लोगों को बुलाया गया, पर वैक्सीनेशन सेंटर पर 6553 लोग ही पहुंचे।
इस तरह चार दिन हुआ वैक्सीनेशन

  • 22 फरवरी कुल कुल 26 सेशन में कुल 3347 स्वास्थ्य कर्मियों में 2063 ही वैक्सीन लगवाने पहुंचे
  • सात सेंटर्स पर 300 कर्मियों को पहले डोज के लिए बुलाया गया। इसकी तुलना में 390 तुलना लोगों को डोज लगाया गया
  • 24 फरवरी कुल कुल 32 सेशन में कुल 2213 कर्मियों में 1811 में ही वैक्सीन लगवाई गई।
  • 12 सेंटर्स पर 200 कर्मियों को पहले डोज के लिए बुलाया गया। इसकी तुलना में 267 कोके लगाए गए।
  • 25 फरवरी 40 कुल 63 सेशन में 4077 स्वास्थ्य कर्मियों में 2679 ने ही वैक्सीन लगवाई।
  • 13 सेंटर्स पर 267 कर्मियों को पहले डोज के लिए बुलाया गया। इसकी तुलना में 184 लोगों ने वैक्सीन लगवाई।

ये व्यवहारिक परेशानी हो रही है
पहले चरण में कई स्वास्थ्य कर्मियों को बिना ऑफ़लाइन प्रक्रिया पूरी किए ही वैक्सीन लगा दी गई थी। नर्सिंग का रिकॉर्ड न चढ़ पाने की वजह से ऐसे कर्मियों के लिए दूसरे डोज का मैसेज ही जनरेट नहीं हो पाया। वैक्सीनेशन में कमी की ये भी एक बड़ी वजह है। पहले चरण में 17 हजार 500 के लगभग स्वास्थ्य कर्मियों को वैक्सीन का पहला डोज लगाया गया था। बहुत ही लोगों को दूसरा डोज भी लगना है। पर चार दिन के वैक्सीनेशन में 68 प्रतिशत स्वास्थ्य कर्मी ही पहुंचे।
इस तरह प्लान किया गया दूसरा डोज का वैक्सीनेशन है

  • 22 फरवरी को- 16, 18, 20, 21 व 25 जनवरी को टीके की पहली डोज लगवाने वाले स्वास्थ्य कर्मी।
  • 24 फरवरी को- 27 जनवरी को टीके की पहली डोज लगवाने वाले स्वास्थ्य कर्मी
  • 25 फरवरी को- 28 जनवरी को टीके की पहली डोज लगवाने वाले स्वास्थ्य कर्मी
  • 01 मार्च को- 29 जनवरी को टीके की पहली डोज लगवाने वाले स्वास्थ्य कर्मी
  • 03 मार्च को – 30 जनवरी को टीके की पहली डोज लगवाने वाले स्वास्थ्य कर्मी
  • 04 मार्च को – 3 व 4 फरवरी को टीके की पहली डोज लगवाने वाले स्वास्थ्य कर्मी
  • 06 मार्च को – 5 फरवरी को टीकी पहले डोज लगवाने वाले और दूसरी डोज लगाने से छूट गई स्वास्थ्य कर्मी।

आज तीन सेंटर्स बनाए गए
जिला टीकाकरण अधिकारी शत्रुघन दाहिया के मुताबिक आज मेडिकल, जिला अस्पताल विक्टोरिया और मनमोहन नगर में दूसरे डोज के लिए छूट गए 3084 लोगों को फिर बुलाया गया है।
कोविन पोर्टल -2 पर आम लोग पंजीकरण करेंगे
50 वर्ष और इससे अधिक की उम्र वाले और गंभीर बीमारी से पीड़ित लोगों को वैक्सीनेशन के लिए खुद से पंजीकरण कराना होगा। इसके लिए सभी को अपने मोबाइल पर कोविन पोर्टल -2 एप डाउनलोड करना होगा। इसमें स्वयं का पंजीकरण करना होगा। इसके बाद उसे सरकारी और प्राथमिक अस्पताल का विकल्प चुनना होगा। सरकारी अस्पताल में नि: शुल्क शुल्क लगेगा। वहीं निजी अस्पताल में आयुष्मान कार्ड से पैसे कटेंगे। जिसके पास आयुष्मान कार्ड नहीं होगा। उसके लिए नकद पैसे लेने के विकल्प पर निर्णय होना है।

खबरें और भी हैं …





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments