Home देश की ख़बरें HC का DGP को निर्देश- UP के पुलिस थानों से शीर्ष टेन...

HC का DGP को निर्देश- UP के पुलिस थानों से शीर्ष टेन अपराधियों की सूचना देने वाले बैनर हटाए गए


इलाहाबाद हाईकोर्ट (फाइल फोटो)

इलाहाबाद हाईकोर्ट (इलाहाबाद उच्च न्यायालय) ने कहा कि यह संविधान के अनुच्छेद -21 का उल्लंघन है। हालांकि अदालत ने निगरानी के लिए अपराधियों की सूची तैयार करने को गलत नहीं माना है। कोर्ट ने डीजीपी को यह बाबत सभी थानों को सर्कुलर जारी करने का भी निर्देश दिया है।

  • News18Hindi
  • आखरी अपडेट:30 जनवरी, 2021, 10:10 AM IST

प्रयागराज। इलाहाबाद हाईकोर्ट (इलाहाबाद उच्च न्यायालय) ने उत्तर प्रदेश के डीजीपी (डीजीपी) को निर्देश दिया है कि वह पुलिस थानों से टॉप टेन अपराधियों के बारे में सूचना देने वाले बैनर हटा लें। ये बैनरों में अपराधियों के नाम और पहचान के साथ ही उनके आपराधिक भीआईस्टेशन की भी जानकारी दी गई है। कोर्ट ने कहा कि यह कॉन्स्ट के अनुच्छेद -21 का उल्लंघन है। हालांकि अदालत ने निगरानी के लिए अपराधियों की सूची तैयार करने को गलत नहीं माना है। कोर्ट ने डीजीपी को इस बाबत सभी थानों को सर्कुलर जारी करने का भी निर्देश दिया है।

‘अनुच्छेद -21 का उल्लंघन, मानवीय गरिमा के विपरीत’

अदालत का मानना ​​है कि थानों के बाहर अपराधियों के बारे में सूचनाएं सार्वजनिक तौर पर प्रदर्शित करना राष्ट्र है और अनुच्छेद -21 का उल्लंघन करने वाला है। ऐसा करना मानवीय गरिमा के विपरीत है। जीशान उर्फ ​​जानू, बलवीर सिंह यादव और दूधनाथ सिंह की याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए यह आदेश न्यायमूर्ति पंकज नकवी और न्यायमूर्ति विवेक अग्रवाल की पीठ ने दिया है। /चीगण के नाम शीर्ष टेन अपराधियों की सूची में प्रयागराज और कानपुर में थानों के बाहर सार्वजनिक रूप से प्रदर्शित किए जाते हैं। इस पर आपत्ति करते हुए याचिका दाखिल की गई थी।

कुर्की का नोटिस होने पर ही बैनर लगाएं

कोर्ट ने कहा कि नेकि न तो राजनीतिक और न ही सामाजिक रूप से किसी अपराधी का नाम थानों के बाहर बड़े रूप से बैनर लगाकर प्रदर्शित करने की आवश्यकता है। जब तक कि उसके खिलाफ धारा -82 सीआरपीसी (कुर्की का नोटिस) के तहत आदेश न जारी किया गया था। तब तक किसी का नाम सार्वजनिक स्थान पर प्रदर्शित करना व्यक्ति की निजता और मानवीय गरिमा के विपरीत है। कोर्ट ने कहा कि पुलिस द्वारा अपराध की रोकथाम और निगरानी के लिए शीर्ष टेन अपराधियों की सूची तैयार करने में कुछ भी गलत नहीं है।

शीर्ष टेन अपराधियों की लिस्ट बनाने का डीजीपी का सर्कुलर वैध

डीजीपी ने प्रदेश के सभी पुलिस थानों को सर्कुलर जारी कर अपने यहां के टॉप टेन अपराधियों की सूची तैयार करने का निर्देश दिया है। कोर्ट ने कहा है कि यह सर्कुलर वैध है जिसमें कुछ भी गलत नहीं है। लेकिन इस सर्कुलर में ऐसा कुछ नहीं है, जिससे पुलिस को किसी अपराधी के बारे में सूचना सार्वजनिक रूप से प्रदर्शित करने का अधिकार मिल जाता है।







Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments