Home कैरियर MURDER: बेटे को नागवार गुज़री चिट फंड बिज़नेस में मां की बेईमानी

MURDER: बेटे को नागवार गुज़री चिट फंड बिज़नेस में मां की बेईमानी


सांकेतिक चित्र

हैदराबाद में एक युवक को हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया गया तो उसने एक कहानी पुलिस को सुनाई कि कैसे उसकी मां चिट फंड का बिज़नेस करती थी और कैसे वह अपनी मां के इस बिज़नेस के कारण बुरी तरह परेशान हो चुका था.

मदन कुछ दिनों से बेहद परेशान था. बहन की शादी हो चुकी थी और मां अपने भाई के घर रहने चली गई थी. जिस काम से मदन का कोई लेना-देना नहीं था, लोग उससे जुड़े सवाल पूछ-पूछ कर उसका दिमाग खा रहे थे. इन तकाज़ों से तंग आकर मदन ने अपनी मां से बहुत झगड़ा किया लेकिन यह मां-बेटे के बीच होने वाला आम झगड़ा नहीं था बल्कि बात एक हत्या तक पहुंचने वाली थी.

हैदराबाद में रहने वाले 21-22 साल के मदन की बहन रीना की शादी कुछ महीने पहले ही हुई थी. शादी धूमधाम से हुई थी और इसके लिए बहुत पैसा खर्च किया गया था. मदन को याद है कि उसने मां से कहा था कि इतना खर्चा वह न करे लेकिन मां नहीं मानी और हैसियत से ज़्यादा इंतज़ाम करने में कोई कसर न छोड़ी. मदन कुछ ही समय पहले अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद एक अच्छा जॉब तलाश कर रहा था इसलिए उसके पास तो कोई बड़ी रकम थी नहीं.

रीना की शादी में सारा इंतज़ाम किया मदन की मां शीला ने. शीला अस्ल में, चिट फंड का बिज़नेस चलाती थी जिसमें कई लोग अपने पैसे जमा करते थे और शीला अपने ब्याज और कमीशन को भुनाकर एक तय समय में लोगों को ब्याज समेत पैसे वापस करती थी. लेकिन बेटी की धूमधाम से शादी के चक्कर में शीला ने चिट फंड से मिले बहुत से पैसे खर्च कर दिए थे. मदन इसी बात से खफा था और तब भी कह रहा था कि ये पैसे वापस करना पड़ेंगे तब वह क्या करेगी. तब शीला ने यह कहकर बात टाल दी कि तब की तब देखी जाएगी.

रीना की शादी को कुछ महीने हो चुके थे और इधर घर पर चिट फंड बिज़नेस में निवेश करने वालों का आना शुरू हो चुका था. सब आते और अपनी रकम वापस मांगते. शीला सबको थोड़े वक्त में पैसे लौटा देने का भरोसा दिलाकर रफा-दफा कर देती. लेकिन लेनदारों के तकाज़े बढ़ते जा रहे थे. इस रोज़ रोज़ के टंटे से परेशान होकर एक दिन शीला ने मदन से कहा कि वह कुछ दिनों के लिए उसके मामा के यहां रहने जा रही है. मदन को उसने कारण नहीं बताया.हैदराबाद समाचार, हत्या, मां का कत्ल, चिट फंड, हैदराबाद, hyderabad, murder, chit fund, son killed mother, matricide

शीला के जाने के बाद लेनदारों ने मदन से तकाज़ा करना शुरू कर दिया. लेकिन मदन के ये कह देने से कि कुछ दिनों के लिए मां बाहर गई है, लेनदार कहां मानने वाले थे. थोड़े दिन और गुज़रे तो लेनदारों ने मदन को खरी खोटी सुनाना शुरू कर दिया. फिर धमकियों का सिलसिला शुरू हुआ. इस बीच, मदन फोन पर शीला से वापसी की बात करता तो वह और कुछ दिन कहकर टाल देती. इधर, मदन की परेशानियां बढ़ रही थीं.

घर पर या रास्ते चलते कोई भी लेनदार मदन को धर लेता और उसकी मां को धोखेबाज़ कहते हुए उसे ताने देता. मदन को कई लोग आकर अल्टीमेटम देने लगे तो कुछ ने उसके साथ हाथापाई की कोशिश भी की. अब मदन के लिए ये रोज़ाना की तानेबाज़ी और सिरदर्दी सहना मुश्किल हो चुका था. आखिरकार मदन पिछली 27 जून को खुद मामा के यहां गया और ज़बरदस्ती शीला को घर वापस ले आया. उसने मां से कहा कि उसका बिज़नेस है तो वही लोगों से डील करे.

शीला घर चली आई लेकिन मदन को उसने भी खरी खोटी सुनाई कि मां के लिए दो-चार बातें नहीं सुन सकता, कैसा बेटा है. इसी बात को लेकर दोनों के बीच झगड़ा शुरू हो गया और तैश में आ चुके मदन ने मां से चुप रहने को कहा लेकिन शीला ने अपनी भड़ास उस पर निकालना जारी रखा. अब मदन आपे से बाहर हो गया तो उसने मां का गला पकड़ा और उसका टेंटुआ दबा दिया. थोड़ी देर तक छूटने की कोशिश करती हुई शीला पर मदन का गुस्सा तभी शांत हुआ जब शीला का दम निकल गया.

हैदराबाद समाचार, हत्या, मां का कत्ल, चिट फंड, हैदराबाद, hyderabad, murder, chit fund, son killed mother, matricide

थोड़ी देर बाद जब मदन का दिमाग कुछ शांत हुआ तो उसे एहसास हुआ कि उसने अपनी मां को मार डाला है. उसने रोते हुए अपने मामा को खबर दी कि गुस्से में उससे ऐसा हो गया. धीरे-धीरे कई करीबी रिश्तेदारों को पता चल गया और मदन को पुलिस के हवाले कर दिया गया.

 








Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments