Home कैरियर SBI की नई स्कीम: अब अमेरिकी मार्केट में पैसा लगाकर बन सकते...

SBI की नई स्कीम: अब अमेरिकी मार्केट में पैसा लगाकर बन सकते हैं मालामाल! मिलेगा शानदार रिटर्न, जानें इसके बारे में सबकुछ


नई दिल्ली. अगर आप निवेश करने की प्लानिंग कर रहे हैं तो अब आपके लिए देश का सबसे बड़ा फंड हाउस एसबीआई म्यूचुअल फंड (SBI Mutual Fund) एक खास स्कीम लाॅन्च करने जा रही है. इस स्कीम के तहत आप अमेरिकी स्टाॅक मार्केट में पैसा लगाकर मोटी रकम कमा सकते हैं. दरअसल, SBI अपना पहला अंतरराष्ट्रीय फंड ऑफर (FoF) लेकर आ रहा है. SBI म्यूचुअल फंड सोमवार को अपना पहला अंतरराष्ट्रीय फंड ऑफर लॉन्च करेगा. इस फंड का नाम SBI इंटरनेशनल एक्सेस – यूएस इक्विटी एफओएफ (SBI International Access – US Equity FOF) होगा. हालांकि, कि एसबीआई की कुछ घरेलू स्कीम्स जैसे कि एसबीआई फोकस्ड इक्विटी (SBI Focused Equity)पहले से ही अपने पोर्टफोलियो का एक हिस्सा अंतरराष्ट्रीय शेयरों में निवेश करती हैं. नई योजना Amundi Funds – US Pioneer Fund में जाएगी.

‘वैश्विक निवेश में कम रहता है जोखिम’
एसबीआई म्यूचुअल फंड के बिजनेस आॅफिसर डीपी सिंह ने कहा कि आम तौर पर भारतीय निवेशकों के अधिकांश निवेश भारतीय शेयरों (Indian stocks)में होते हैं. वैश्विक निवेश (Global investment )मजबूत लाभ प्रदान करेगा. इंटरनेशनल म्यूचुअल फंडों के जरिए निवेशक भारत से कई गुना बाजार का फायदा उठा सकते हैं. वैश्विक निवेश से किसी भी निवेशक का पोर्टफोलियो डायवर्सिफाई हो जाता है, जिससे जेखिम कम करने में मदद मिलती है. underlying fund में आज की सबसे तेजी से बढ़ती टेक कंपनियां हैं जो कि Environmental Social Governance (ESG)की फिलाॅसपी का अनुसरण करती है.

ये भी पढें- SBI Pension Loan: आसानी से मिल जाएगा 14 लाख रुपये तक का लोन, बस करना होगा इस नंबर पर मिस्‍डकॉल, जानें डिटेल्स..बढ़ रहा है इंटरनेशनल निवेश का आकर्षण

बता दें कि कई बार अगर घरेलू करंसी में गिरावट हो तो एक हेज के रूप में काम करते हैं. पिछले 5 साल की बात करें तो इंटरनेशनल म्यूचुअल फंडों ने 32 प्रतिशत तक का रिटर्न दिया है. इसके कारण अंतरराष्ट्रीय स्तर पर निवेश का आकर्षण बढ़ रहा है.

जानिए इंटरनेशनल फंड के बारे में?
इंटरनेशनल फंड या ओवरसीज फंड अंतरराष्ट्रीय बाजारों में निवेश करते हैं. इन फंडों का निवेश इक्विटी या डेट में हो सकता है. ये अन्य एसेट क्लास में मसलन कमोडिटीज, रियल एस्टेट आदि में भी निवेश करते हैं. सेबी के नियमों के अनुसार जो म्यूचुअल फंड दूसरे देशों की इक्विटी या इक्विटी रिलेटेड इक्यूपमेंट में 80 प्रतिशत से अधिक निवेश करते हैं, वह इंटरनेशनल फंड की कटेगिरी में आते हैं.

ये भी पढें- पैसा बनाने का मौका! अब ये कंपनी लाएगी IPO, जानें कंपनी और इस आईपीओ की खास बातें

क्या है इसमें निवेश का तरीका
कुछ इंटरनेशनल फंड सीधे इंटरनेशनल इक्विटी में निवेश करते हैं. वहीं कुछ फंड हैं जो इंटरनेशनल इंडेक्स मसलन नैसडैक या एसएंडपी 500 में निवेश करते हैं. कुछ ऐसे भी हैं जो फीडर फंड के रूप में काम करते हैं और इंटरानेशनल मार्केट में एक आइडेंटिफाई म्यूचुअल फंड में निवेश करते हैं. फिर फंड ऑफ फंड्स हैं जो इंटरनेशनल फंड की यूनिट में निवेश करते हैं.

1 साल में बेस्ट रिटर्न देने वाले फंड- 
>> मोतीलाल ओसवाल नैसडेक 100 FOF: 46 फीसदी

>> DSP वर्ल्ड गोल्ड: 45 फीसदी

>> PGIM इंडिया ग्लोबल इक्विटी अपॉर्चुनिटी: 40 फीसदी

>> फ्रैंकलिन फीडर US अपॉर्चुनिटी: 33 फीसदी

>> ICICI प्रू ब्लूचिप इक्पिटी: 25 फीसदी

>> निप्पॉन इंडिया US इक्विटी अपॉर्चुनिटी: 22 फीसदी

>> ABSL ग्लोबल इमर्जिंग अपॉर्चुनिटी: 21 फीसदी





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments