Home कैरियर SBI में अपनी बेटी के नाम पर खोलें गारंटीड मुनाफा देने वाला...

SBI में अपनी बेटी के नाम पर खोलें गारंटीड मुनाफा देने वाला ये खाता, मिलेंगे लाखों रुपये


नई दिल्ली. केंद्र सरकार (Government of India) ने 10 साल से कम उम्र की बच्ची के लिए उच्च शिक्षा और शादी के लिए बचत करने के लिहाज से सुकन्या समृद्धि योजना (Sukanya Samriddhi-Yojana) एक अच्छी निवेश योजना शुरू की हुई है. इस योजना की सबसे बड़ी खासियत इसमें मिलने वाला रिटर्न है. जो कि किसी भी अन्य योजना से ज्यादा है. मौजूदा समय में इस पर 7.6 फीसदी का ब्याज मिल रहा है. SBI की वेबसाइट पर दी गई जानकारी के मुताबिक, इस स्कीम में सेक्शन 80सी के तहत इस योजना में निवेश करने पर टैक्स छूट का भी फायदा मिलता है. यानी सालाना 1.5 लाख रुपये के निवेश पर आप टैक्स छूट का फायदा उठा सकते हैं. स्कीम से मिलने वाला रिटर्न भी टैक्स फ्री है.

कभी मिलता था 9 फीसदी से ज्यादा रिटर्न- साल 2016 -17 में एसएसवाई में 9.1 फीसदी की दर से ब्याज दिया जा रहा था जो इनकम टैक्स छूट के साथ है. इससे पहले इसमें 9.2 फीसदी तक ब्याज भी मिला है. हालांकि, अब यानी 1 अप्रैल 2020 से 30 जून 2020 तक 7.6 फीसदी ब्याज मिलेगा.आपको बता दें कि सुकन्या समृद्धि योजना खाते से 18 साल की उम्र के बाद बच्चे की उच्च शिक्षा के लिए खर्च के मामले में 50 फीसदी तक रकम निकाली जा सकती है.

अप्रैल 1, 2014: 9.1%
अप्रैल 1, 2015: 9.2%अप्रैल 1, 2016 -जून 30, 2016: 8.6%

जुलाई 1, 2016 -सितम्बर 30, 2016: 8.6%
अक्टूबर 1, 2016-दिसम्बर 31, 2016: 8.5%
जुलाई 1, 2017-दिसंबर 31, 2017 8.3%
अक्टूबर 1, 2018 – दिसंबर 31, 2018 : 8.5%
जनवरी 1, 2019 – मार्च 31, 2019 : 8.5%

वित्तीय सलाहकार कहते हैं कि ये खाता उन लोगों के लिए बहुत फायदेमंद है जो छोटी-छोटी बचत के जरिये बच्चे की शादी या उच्च शिक्षा के लिए रकम जमा करना चाहते हैं.

सुकन्या समृद्धि योजना उन लोगों के लिए बहुत अच्छी स्कीम है जिनकी आमदनी कम है और जो शेयर बाजार में पैसे लगाने में भरोसा नहीं करते. निश्चित आमदनी के साथ पूंजी की सुरक्षा इस स्कीम की खासियत है.

ये भी पढ़ें-10 सरकारी बैंकों का विलय 1 अप्रैल से लागू- जानिए अब अपने बैंक का नया नाम!

निवेश के इस विकल्प में पैसे लगाने से आपको इनकम टैक्स बचाने में भी मदद मिलती है. जो लोग शेयर बाजार के जोखिम से दूर रहना चाहते हों और फिक्स्ड डिपॉजिट (एफडी) में गिरते ब्याज दर से परेशान हों, सुकन्या समृद्धि योजना उनके लिए बेहतरीन कदम साबित हो सकती है.

मिलती है सरकार की ओर से गारंटी-सुकन्या समृद्धि योजना (एसएसवाई) बेटियों के लिए केंद्र सरकार की एक छोटी बचत योजना है जिसे बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ स्कीम के तहत लांच किया गया है. छोटी बचत स्कीम में सुकन्या सबसे बेहतर ब्याज दर वाली योजना है.

सुकन्या समृद्धि योजना के तहत एकाउंट किसी गर्ल चाइल्ड के जन्म लेने के बाद 10 साल से पहले की उम्र में कम से कम 250 रुपये के जमा के साथ खोला जा सकता है. चालू वित्त वर्ष में सुकन्या समृद्धि योजना के तहत अधिकतम 1.5 लाख रुपये जमा कराये जा सकते हैं.

कहां खुलेगा सुकन्या समृद्धि योजना खाता?
सुकन्या समृद्धि योजना के तहत एकाउंट किसी पोस्ट ऑफिस या SBI समेत कई बैंकों की ब्रांच की अधिकृत शाखा में खोला जा सकता है.सुकन्या समृद्धि योजना खाता खोलने के बाद यह गर्ल चाइल्ड के 21 साल के होने या 18 साल की उम्र के बाद उसकी शादी होने तक चलाया जा सकता है.

सुकन्या समृद्धि योजना खाता खोलने के नियम
सुकन्या समृद्धि योजना खाता बच्ची के माता-पिता या कानूनी अभिभावक द्वारा गर्ल चाइल्ड के नाम से उसके 10 साल की उम्र से पहले खोला जा सकता है.

इस नियम के मुताबिक एक बच्ची के लिए एक ही खाता खोला जा सकता है और उसमें पैसा जमा किया जा सकता है. एक बच्ची के लिए दो खाता नहीं खोला जा सकता.

मुुफ्त में 3 महीने तक मिलेंगे 1500 रुपये

सुकन्या समृद्धि योजना खाता खोलने के वक्त बच्ची का बर्थ सर्टिफिकेट पोस्ट ऑफिस या बैंक में देना जरूरी है. इसके साथ ही बच्ची और अभिभावक के पहचान और पते का प्रमाण भी देना जरूरी है.

सुकन्या समृद्धि योजना एकाउंट खोलने के लिए 250 रुपये काफी हैं, लेकिन बाद में 100 रुपये के गुणक में पैसे जमा कराये जा सकते हैं. किसी एक वित्त वर्ष में कम से कम 250 रुपये जरूर जमा कराया जाना चाहिए. किसी एक वित्त वर्ष में SSY खाते में एक बार या कई बार में 1.5 लाख रुपये से अधिक जमा नहीं कराया जा सकता.

कब तक जमा करना होगा पैसा-सुकन्या समृद्धि योजना खाते में रकम खाता खोलने के दिन से 15 साल तक जमा कराया जा सकता है. 9 साल की किसी बच्ची के मामले में जब वह 24 साल की हो जाये तब तक रकम जमा कराई जा सकती है. बच्ची के 24 से 30 साल के होने तक जब सुकन्या समृद्धि योजना खाता मैच्योर हो जाये, उसमें जमा रकम पर ब्याज मिलता रहेगा.

अगर बीच में पैसा जमा नहीं हुआ तो क्या होगा- किसी अनियमित सुकन्या समृद्धि योजना अकाउंट में जहां कम से कम रकम जमा नहीं हुई है, उसे 50 रुपये सालाना की पेनाल्टी देकर नियमित कराया जा सकता है. इसके साथ ही हर साल के लिए कम से कम जमा कराई जाने वाली रकम भी सुकन्या समृद्धि योजना अकाउंट में डालनी पड़ेगी.

अगर पेनल्टी नहीं चुकाई गयी तो सुकन्या समृद्धि योजना खाते में जमा रकम पर पोस्ट ऑफिस के सेविंग एकाउंट के बराबर ब्याज मिलेगा जो अभी करीब चार फीसदी है. अगर सुकन्या समृद्धि योजना खाते पर ब्याज ज्यादा चुका दिया गया है तो उसे रिवाइज किया जा सकता है.

ये भी पढ़ें-SBI समेत इन बैंकों ने ग्राहकों को दी राहत, 3 महीने तक नहीं देनी होगी EMI

कब मिलेगा पैसा-  खाता खोलने के दिन से 21 साल पूरा होने या गर्ल चाइल्ड की शादी होने के बाद एकाउंट मैच्योर हो जायेगा.

अगर सुकन्या समृद्धि योजना खाता धारक की मृत्यु हो जाये तो डेथ सर्टिफिकेट दिखाकर खाता बंद कराया जा सकता है. इसके बाद सुकन्या समृद्धि योजना खाते में जमा रकम बच्ची के अभिभावक को ब्याज सहित वापस दी जा सकती है.

दूसरे मामलों में एसएसवाई खाते को खोलने से पांच साल के बाद बंद किया जा सकता है. यह भी कई परिस्थितियों में किया जा सकता है, जैसे जीवन को खतरे वाली बीमारियों के मामले में.

इसके बाद भी अगर किसी दूसरे कारण से खाता बंद किया जा रहा हो तो इसकी इजाजत दी जा सकती है, लेकिन उस पर ब्याज सेविंग खाते के हिसाब से मिलेगा.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments